जौनपुर। यूपी बोर्ड परीक्षा की फर्जी उत्तर पुस्तिका छपवाने की गूंज लखनऊ पर पहुंच गयी है। सम्भवत: यही कारण था कि मंगलवार को डिप्टी सीएम डा. दिनेश शर्मा अचानक आ धमके और विभिन्न स्कूल का निरीक्षण करने के संग परीक्षा की शुचिता बरकरार रखने का निर्देश दिये हैं। डिप्टी सीएम ने प्रभारी डीएम आलोक सिंह, एसपी केके चौधरी के साथ बैठकर शिक्षा माफियाओं के खिलाफ बड़ा अभियान चलाने का निर्देश दिया। साथ ही लाइन बाजार एसओ मिथिलेश मिश्रा, केराकत इंस्पेक्टर शशि भूषण राय समेत एसटीएफ के अधिकारियों की सराहना भी की। उधर फर्जी कापी छपवाने वाले शिक्षा माफिया ओमप्रकाश तिवारी पर कानून और विभाग का शिकंजा कस गया है। सीजेएम अभिनव मिश्र की अदालत ने फरार चल रहे शिक्षक के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिया है। उधर मिजार्पुर के बीएसए प्रवीण कुमार तिवारी ने मंगलवार को फरार चल रहे शिक्षक को निलंबित कर दिया है।

कालेज प्रबंधक के संग है सहायक अध्यापक

गौरतलब है कि कॉपी को छपवाने वाला शिक्षा माफिया मां शारदा इंटर कालेज का प्रबंधक ओमप्रकाश तिवारी निवासी भेलूपुर तियरा (बदलापुर) और सुनील दुबे निवासी सिरसौली (सिंगरामऊ) जो जिला सैनिक कल्याण पुर्नवास कल्याण केंद्र में कर्मचारी है फरार चल रहे है जबकि प्रिंटिंग प्रेस का मालिक रामपलट मौर्य जेल जा चुका है। ओमप्रकाश तिवारी हलिया (मीरजापुर) ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय नदौली में सहायक अध्यापक के रूप में तैनात है। इलाके में उसकी छवि दबंग शिक्षक माफिया के रूप में है। पिछले 28 जनवरी से वह विद्यालय से अनुपस्थित चल रहा है। उसने अपने साथी सुनील कुमार दूबे के साथ मिलकर यूपी बोर्ड की फर्जी उत्तर पुस्तिका छपवाकर प्रदेश सरकार को चुनौती दी थी।

admin

No Comments

Leave a Comment