वाराणसी। इन दिनों गर्मी का पारा चढ़ने के बावजूद सरकारी कर्मचारी समय से अपनी सीट पर पहुंच ही नहीं रहे हैं बल्कि उनका व्यवहार बदला है। वजह, डीएन योगेश्वर राम मिश्र एक्शन मोड में चल रहे हैं। रोजाना आफिस के काम के संग वह अस्पतालों के साथ कार्यालय के निरीक्षण करने के साथ कार्रवाई कर रहें है। मंगलवार को कबीरचौरा स्थित राजकीय महिला चिकित्सालय में औचक निरीक्षण को पहुंचे डीएम को देख मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से लेकर दूसरे कर्मचारियों के होश उड़ गये। डीएम ने अस्पताल परिसर में इधर-उधर बैठे मरीजों के तीमारदारो से वार्ता करते हुए उन्होने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को तीमारदारो को बैठने हेतु छाया एवं पेयजल आदि की व्यवस्था किये जाने का निर्देश दिया।

दवाओं की कमी हुई तो खैर नहीं

डीएम ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से दवाओं की उपलब्धता के बाबत जानकारी करते हुए कहा कि किसी भी प्रकार की कोई कमी हो तो अवश्य बताये ताकि व्यवस्था सुनिश्चित कराया जा सके। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता बतायी। अस्पताल परिसर में निमार्णाधीन 100 शैया के मैटरनिटी विंग की मलवा इधर-उधर बिखरा पड़ा होने पर उन्होने मलवा को हटवाये जाने का निर्देश दिया। अस्पताल परिसर में सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने हेतु भी डीएम ने निर्देशित किया। निरीक्षण के दौरान डीएम ने मरीजो का इलाज सेवा भाव के साथ किये जाने का उपस्थित चिकित्सको को निर्देश देते हुए कहॉ कि बाहर से दवायें कत्तई न लिखी जाय और यदि इस संबंध में शिकायत मिली, तो बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

खुद पिलाया राहगीरों को पानी

डीएम कबीरचौरा स्थित राजकीय महिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण करने पहुंचे थे कि भीषण गर्मी के चलते गेट के मुख्य मार्ग पर एक प्याऊ का उद्घाटन की तैयारी चल रही थी। डीएम को देख लोगों ने उद्धाटन करने का अनुरोध किया तो वे सहज तैयार हो गये और प्याऊ का उद्घाटन करने पहूॅच गये। इस दौरान मौके पर मौजूद बच्चो एवं बूढ़ो को डीएम स्वयं अपने हाथ से पानी पिलाना शुरू कर दिया जिसे देख लोग सकते में रह गये।

admin

No Comments

Leave a Comment