बलिया। डाक्टर को भगवान का दूसरा रूप कहा जाता है क्योंकि वह जीवन दे सकते हैं और लेने की भी क्षमता होती है। बावजूद इसके पिछले एक सप्ताह के दौरान डाक्टरों पर लगातार हमले हो रहे हैं। ताजा मामला बलिया जिले के सदर अस्पताल में मंगलवार की मध्य रात किसी बात को लेकर इमरजेंसी में तैनात डाक्टर परविंदर कुमार का है जिन पर कुछ मनबढ़ युवकों ने हमला कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। लगातार हो रहे हमले के विरोध में डाक्टरों ने गुरुवार को कार्य बहिष्कार कर दिया है तथा जिलाधकारी को ज्ञापन सौंपकर लिखित तहरीर दी है कि जब तक आरोपियों की गिरफ्तारी एवं हम लोगों कि सुरक्षा नहीं होगी तब तक कार्य बहिष्कार किया जाएगा। साथ ही चेतावनी दी है कि यदि आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो जनपद की समस्त ओपीडी एवं स्वास्थ्य सेवाओं को बंद कर दिया जायेगा।

लगातार हो रही हैं वारदात

गौरतलब है कि चिलकहर पीएचसी (गङवार) पर तैनात डॉक्टर सीताराम प्रजापति पर कुछ अराजक तत्वों ने सोमवार की रात हमला कर दिया। डाक्टर किसी तरह वहां भाग निकले और तहरीर थाने में दी। पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए विजयराम ,राजेंद्र, शिवकुमार, बंधु, सत्येंद्र आदि पर आईपीसी की धारा 353, 147, 323 ,504 ,506 के तहत मुकदमा दर्ज कर सभी को गिरफ्तारी कर लिया है। सोमवार की ही रात रसड़ा में सीएससी पर तैनात डाक्टर भारती पर चार अज्ञात युवकों ने हमला कर घायल कर दिया। डा. भारती की लिखित तहरीर पर रसड़ा कोतवाली में 4 अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 353, 504 ,506 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। डा. परविंदर के मामले में भी पुलिस ने डाक्टरों की तहरीर पर धारा 341, 353, 323, 504 ,506 आईपीसी एक्ट के तहत दिलीप खरवार व अज्ञात पर मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।

admin

No Comments

Leave a Comment