लखनऊ। ऐसा अमूमन फिल्मों में देखने को मिलता है। किसी डॉन को पेशी के बाद भेजा जा रहा हो और दूसरी तरफ से तेज रफ्तार वाहन सामने आकर टकरा जाये। ऐसा ही कुछ मंजर गुरुवार/शुक्रवार की रात को ललौली (फतेहपुर) में बांदा-टांडा रोड पर खरौली गांव के पास देखने को मिला। पुलिस एस्कार्ट और लक्जरी वाहनों के काफिले में जा रही एम्बुलेंस से तेज रफ्तार रोडवेज टकराने से बच गयी। एम्बुलेंस में मऊ सदर के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी मौजूद थे। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि दोनों ड्राइवरों ने सतर्कता दिखाते हुए इमरजेंसी ब्रेक न लगाया होता तो विधायक बड़े हादसे का शिकार हो जाते। चंद मीटर की दूरी से टक्कर होने से बच गयी।

मवेशियों का झुंड आ गया था सड़क पर

गौरतलब है कि गुरुवार को मुख्तार इलाहाबाद में माननीयों की खातिर बनी स्पेशल कोर्ट के जज पवन कुमार तिवारी के सामने पेशी के लिए आये थे। वापसी में उनका काफिला खरौली गांव से गुजर रहा था तभी अचानक सड़क पर मवेशियों का झुंड आ गया। सडक पर मवेशियों का झुंड होने की वजह से ओवरटेक करते समय मुख्तार की एंबुलेंस सामने तेज रफ्तार रोडवेज बस आ गयी। पुलिसवालों के साथ करीबियों की सांस थम सी गयी थी लेकिन किसी तरह टक्कर बच गयी।

बस की भी हुई चेकिंग

सुनसान सड़क पर ब्रेक की चरचराहट से अचानक मुख्तार की गाड़ी रुकी तो सभी एलर्ट को गये। एम्बुलेंस के साथ एस्कार्ट वाहन में सवार सुरक्षा जवान उतरकर चौकन्ना हो गए। सुरक्षा जवानों के अलावा मुख्तार के करीबियों ने रोडवेज बस में चढकर जांच-पड़ताल के साथ यह पुष्ट किया कि किसी दूसरे ‘कारण’ से तो बस सामने नहीं आ गयी थी। संयोग था कि बस में भी सवार कोई घायल नहीं हुआ था। बाद में सुरक्षाकर्मी मुख्तार को लेकर बांदा जेल के लिए रवाना हो गये।

admin

No Comments

Leave a Comment