बलिया। रसड़ा विधानसभा सीट से बसपा विधायक उमाशंकर सिंह समाजिक कार्यों को लेकर चर्चा में रहते हैं। कभी सैकड़ों का सामूहिक विवाह तो कभी गरीब-असहाय का इलाज का खर्च उठाना सुनने को मिलता है। कुंभ के समय स्पेशल टेÑन और सैैकड़ों लोगों को अजमेर शरीफ भेजने वाले विधायक एक बार फिर से सुुर्खियों में हैं। इस बार किसी काम को लेकर नहीं बल्कि रंगदारी की मांग को लेकर। विधायक को एक सप्ताह के भीतर कई बार फोन पर धमकी ही नहीं दी गई बल्कि ईमेल से लेकर व्हाट्सएप पर मैसेज कर एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई। खास यह कि रंगदारी मांगने वाले ने खुद को इंटरनेशलन डॉन दाउद इब्राहिम बताया है। यहीं नहीं उसके ईमेल पर फोटो पर भी दाउद का ही लगा था। विधायक ने गोमती नगर थाने में तहरीर दी जिसे पुलिस ने गंंभीरता से लेते हुए आईपीसी के संग आईटी एक्ट की धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।

मैसेज से शुरू हुआ था सिलसिला

गोमतीनगर थाने में दी तहरीर में विधायक उमाशंकर ने लिखा है कि छह अगस्त को पहले उनके मोबाइल पर एक मैसेज आया। जिसमें उन्हें ई-मेल चेक करने को कहा गया। इस मैसेज पर उन्होंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया। दोबारा आठ अगस्त को फिर से मैसेज आया लेकिन इसमें एक करोड़ रुपये न देने पर जान से मारने की धमकी दी गई। इसके बाद ही उमाशंकर ने अपना ई-मेल चेक किया तो उसमें एक मेल आई थी जिस पर दाउद इब्राहिम की फोटो लगी हुई थी। विधायक ने मोबाइल पर मैसेज भेजने वाले नम्बर को ट्रू कॉलर पर चेक किया तो उस पर दाउद इब्राहिम नाम दिखा। इसके बाद ही विधायक ने पुलिस अफसरों से सम्पर्क किया। फिर गोमती नगर कोतवाली में एफआईआर दर्ज करायी गई। इंस्पेक्टर गोमती नगर डीपी तिवारी ने स्वीकार किया कि अज्ञात के खिलाफ आईटी एक्ट व रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज कराया गया है।

फिल्मी अंदाज में की गयी डिमांड

विधायक को भेजे गये मैसेज में फिल्मी अंदाज में डिमांड की गयी है। मेल में लिखा था, ‘वार्निंग! जीना है या मरना है। तू डिसाइड कर ले क्योंकि तेरे लिए एक गोली ही काफी है। मैं नहीं चाहता कि बलिया की जनता का सेवक दुनिया छोड़े। कीमत एक करोड़.. यस या नो।’ यही नहीं फोन पर भेजे मैसेज में लिखा था, ‘लास्ट वार्निंग उमाशकर सिंह यस आर नो, वन करोड़।’

admin

No Comments

Leave a Comment