वाराणसी। रजनहिया (सारनाथ) शराब ठेके पर हुए दोहरे हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। खास यह कि इमें शामिल दो बदमाशों को दो पिस्टल और दो कारतूस के साथ पकड़ा गया है। यही नहीं गिरफ्तारी और बरामदगी में दो थानेदार शामिल थे। एसएसपी आरके भारद्वाज ने शनिवार को मीडिया के सामने गिरफ्तार बदमाशों को पेश करते हुए घटनाक्रम के बाबत सिलसिलेवार जानकारी दी। पुलिस के मुताबिक चखने को लेकर विवाद में पिटाई का बदला लेने की खातिर वारदात को अंजाम दिया गया था। गिरफ्तार हासिमपुर के नीरज रावत और रामदत्तपुर के आशीष राजभर के पास से घटना में प्रयुक्त .32 बोर की दो पिस्टल व 2 कारतूस मिले हैं। एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह व एसपी क्राइम ज्ञानेंद्र नाथ प्रसाद के नेतृत्व में पुलिस टीम ने दोनों के खिलाफ इलेक्ट्रानिक्स साक्ष्य संकलित किये हैं। सर्विलांस से उनकी लोकेशन घटनास्थल पर मिली और सीसीटीवी फुटेज में भी वह दिखे हैं। इसके अलावा रमदत्तपुर निवासी पंकज भारती, प्रिंस शर्मा, बाबू राजभर तथा राजू धरकार की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

विवाद के दो घंटे बाद पहुंचे हमलावर

रजनहिया ठेके पर 3 मई को रात साढ़े 8 बजे नीरज और आशीष ने शराब खरीदी थी। चखना खरीदने में पैसा कम कराने को लेकर पूर्व प्रधान बसंता से दोनों की कहासुनी हो गई। बसंता ने भतीजे राजेश और अन्य की मदद से नीरज तथा आशीष की पिटाई कर दी। भड़के हुए दोनों अपने दोस्तों के पास गए और बदला लेने की बात कही। तीन बाइक से छह लोह रात साढ़े 10 बजे वहां पहुंचे और मारपीट के बाद गोलियां बरसायी जिसमें बसंता और राजेश की मौत हो गई थी। कप्तान ने खुलासे में अहम भूमिका निभाने वाले क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह को नगद पुरस्कार दिया। पुलिस टीम में एसओ सारनाथ थानाध्यक्ष व चौबेपुर ओम नारायण सिंह के संग एसआई राकेश सिंह भी थे।

admin

Comments are closed.