वाराणसी। विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले प्रदेश के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर इस बार जातिगत टिप्पणी को लेकर निशाने पर हैं। यादवों और क्षत्रियों पर कथित टिप्पणी को लेकर लखनऊ में भड़की आग काशी तक पहुंच गयी है। विवादित बयान देने के बाद लखनऊ में ओमप्रकाश राजभर के आवास पर अंडे-टमाटर फेंकने के मामले में दो गिरफ्तारी कर पुलिस माहौल ठंडा करने का प्रयास कर रही थी कि रविवार को हरतीरथ चौराहे ((कोतवाली) पर ओमप्रकाश का पुतला फूंकके के संग सपाइयों ने उनसे माफी मांगने की मांग की। गौरतलब है कि इससे पहले प्रतापगढ़ से अपना दल के सांसद हरिवंश भी ओमप्रकाश के खिलाफ कार्रवाई ही नहीं बल्कि गिरफ्तारी की मांग कर चुके हैं।

सपाइयों ने भरी हुंकार, नहीं सहन करेंगे अपमान

राजभर ने शुक्रवार को सर्किट हाउस में मीडिया से बातचीत में कहा था कि यादव और क्षत्रिय लोग शराब का सेवन सबसे ज्यादा करते हैं। प्रदर्शनकारी सपाइयों ने कहा यादवों व राजपूतों का अपमान किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सपाइयों ने आरोप लगाते हुए कहा कि यादवों व राजपूतों के खिलाफ गलत बयानबाजी करने वाले ओमप्रकाश राजभर को भाजपा गले लगा रही है। यदि भाजपा यादवों व राजपूतों का जरा सी भी सम्मान करती है, तो तत्काल ओमप्रकाश राजभर की पार्टी से गठबंधन तोड़े। सपा तो यादवों व राजपूतों के अपमान को कभी बर्दाश्त नहीं करेगी। विरोध-प्रदर्शन में विक्की गुप्ता, योगेश यादव, अंशुमान चंद्रवंशी, अहमदुल्ला अंसारी,आशीष सेठ, शोभित,आनंद कश्यप, गोविंद यादव, सागर यादव, अरविंद प्रजापति आदि थे।

admin

No Comments

Leave a Comment