डीएम का आदेश ‘सख्त’ फिर भी लोग हैं ‘मस्त’, घर-घर दवा पहुंचाने के लिए टीम की गयी रवाना

वाराणसी। विदेश घूम कर आने वालों को डीएम की तरफ से सख्त चेतावनी दी गयी है कि अगले तीन दिनों में आकर वह अपना चेकअप करा लें। बावजूद इसके सिर्फ 21 व्यक्तियों ने आकर चिकित्सालय में स्क्रीनिंग टेस्ट कराया। इसमें एक संदिग्ध का सैंपल लेकर जांच हेतु भेजा गया जिसकी रिपोर्ट सोमवार को आएगी। इस व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कर लिया गया है। शेष सामान्य पाए जाने वाले व्यक्तियों को अपने घर में 14 अप्रैल तक होम कोरोन्टाइन कराया गया है। इसके अतिरिक्त पंडित दीनदयाल राजकीय चिकित्सालय की ओपीडी में 249 लोगों की स्क्रीनिंग चेकअप हुआ। जिसमें 10 संदिग्ध लोगों का सैंपल लेकर जांच हेतु भेजा गया है। डीएम ने फिर दोहराया है कि 10 मार्च के बाद विदेश से लौटे व्यक्ति अस्पताल आकर अपनी स्क्रीनिंग करा लें। इसमें उनके स्वयं एवं परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित होगी। यदि 31 मार्च की शाम 4 बजे तक कोई अपनी स्क्रीनिंग नहीं कराता है तो इसे महामारी अधिनियम के अंतर्गत बहुत ही गंभीरता से लिया जाएगा।

‘दवा आपके द्वार’ (मेडिसिन एट डोर स्टेप) का शुभारंभ

नोवल कोरोना के संक्रमण एवं महामारी आपदा से बचाव के लिए मेडिसिन एट डोर स्टेप का शुभारंभ रविवार को डीएम ने अपने कैंप कार्यालय से हरी झंडी दिखाकर किया। यह योजना केमिस्ट एन्ड ड्रगिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन व इण्डियन रेडक्रॉस सोसाइटी के सहयोग से संचालित होगी। प्रथम चरण में यह योजना वाराणसी जनपद के विभिन्न क्षेत्रों के 15 चयनित मेडिकल स्टोर से संचालित होगी। जिसमे उनके दुकान का नाम व मोबाइल नम्बर जारी किया गया। चिकित्सक द्वारा जारी परामर्श पर्ची या व्हाट्सएप पर भेजे गए परामर्श के अनुसार आवश्यक दवा डिलीवरी बॉय उनके द्वार तक पहुचायेंगे। इसके लिये अभी 15 डिलीवरी ब्वॉय नामित हुए हैं। डीएम ने बताया कि यह योजना विशेष तौर से बुजुर्गों व ऐसे लोगों के सहायतार्थ शुरू की गई है जो दवा के दुकान तक नही पहुँच सकते। योजना प्रात: 10 बजे से सायं 5 बजे तक उपलब्ध होगी। आगामी चरणों में वाराणसी जनपद के सभी क्षेत्र के मेडिकल स्टोर शामिल किये जायेंगे।

Related posts