पीएम के संसदीय क्षेत्र को टीबी मुक्त करने के लिए डीएम की पहल, आठ साल के बच्चे को लिया गोद

वाराणसी। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी को 2022 तक टीबी मुक्त भारत के लक्ष्य को पूरा करने के लिए डीएम कौशलराज शर्मा ने की ठोस पहल की है। डीएम ने रविवार को 8 वर्षीय आयुष को गोद लिया। आयुष टीवी रोग का मरीज है। उसके पिता का नाम अजय प्रताप सिंह है जो कैंट स्थित मालती होटल के पास रहते हैं। डीएम ने आयुष को फ्रूट देकर शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। इससे पहले डीएम ने खुद आयुष के घर पहुंचकर उसका कुशल क्षेम पूछा और उसकी देखरेख का जिम्मा खुद लिया। साथ ही जनपद में 18 वर्ष से कम उम्र के 500 चिन्हित टीवी रोग से ग्रसित बच्चों को विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं एवं विभागों द्वारा अडॉप्ट कराया गया। डीएम का मानना था दो से तीन माह में काशी टीबी रोग से मुक्त हो जाएगा।

लोग समझें अपना सामाजिक दायित्व

सीएमओ से प्राप्त सूचना के आधार पर जिले के लगभग 500 बच्चे 18 वर्ष से कम उम्र के टीबी ग्रस्त हैं। पीएम का 2022 तक टीबी मुक्त भारत के लक्ष्य के क्रम में राज्यपाल द्वारा सभी जनपदों को प्रेरित किया जा रहा है कि जितने भी 18 वर्ष से क्रम उम्र के टीबी ग्रस्त बच्चे हैं उन्हे हर वर्ग के लोग अपनाकर अपना सामाजिक दायित्व समझते हुए रोगमुक्त करने में सहयोग दें। डीएम के निर्देश पर सीएमओ ने सभी 500 बच्चों को विभिन्न सामाजिक सगठनों (सीडीओ कार्यालय, सीएमओ कार्यालय, जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय, रेड क्रास सोसायटी, लायंस क्लब, रोटरी क्लब, उघोग व्यापार मण्डल एवं आईएमए इत्यादि) को एडाप्ट करवाया गया। सभी एडाप्ट बच्चों की जिम्मेदारी लेने वाले संस्थाओं को आग्रह किया गया है कि अपनी-अपनी जिम्मेदारी पर बच्चों को उनके घर जाकर मिले साथ ही बच्चों को दवाईयां लेने का क्रम समझायें तथा अगले 15 दिनों के लिए मूंगफली, गुड, चना, सत्तू व मौसमी फल आदि उपलब्ध करायें जिसका सेवन वे 15 दिन तक कर सकें।

इलाज के साथ खान-पान की चर्चा

इसी कड़ी में डीएम ने आयुष सिंह जो ट्यूबरकूलर एक्जीलरी लिम्फेडनाइटिस लेफ्ट साइड(एक्स्ट्रा पलम्यूनरी टीबी) का मरीज है, की जिम्मेदारी लेते हुए बच्चे के घर जाकर उनसे मुलाकात की एवं विस्तार से चर्चा के पश्चात दवाइयों के नियमित सेवन एवं खान-पान के बारे में विस्तृत रूप से समझाया। डीएम ने बच्चे को 15 दिन के लिए नारंगी, गुड, मूंगफली से बनी मिठाईयां इत्यादि देते हुए बताया कि प्रत्येक दिन दवा के साथ-साथ फल एवं मिठाई भी खाओ एवं इसका फोटो भी सुरक्षित रखना। पुन: डीएम के निर्देश पर सीएमओ ने साक्षी साह (12) निवासी हबीबपुरा जो पाट्स स्पाईन(एक्स्ट्रा पलम्यूनरी टीबी) की जिम्मेदारी लेते हुए बच्चे के घर जाकर उससे मुलाकात करते हुए दवाइयों का नियमित सेवन एवं खान-पान के बारे में बताते हुए 15 दिनों के लिए फल इत्यादि दिया। कार्यक्रम में आरएनटीसीपी के चिकित्साधिकारी डा.वीके सिंह, क्षेत्रीय सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाईजर धर्मेन्द्र सिंह एवं टीबी हेल्थ विजीटर संदीप कौशल उपस्थित रहे।

Related posts