वाराणसी। शहर में चल रहे विकास कार्यो में बरती जाने वाली लापरवाही से लोगों को हो रही परेशानी पर जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र की त्योरी चढ़ गयी है। डीएम ने शहर की सड़कों पर बेतरतीब तरीके से पड़े एवं बिखरे केबिल एवं टेलीफोन एवं अन्य कम्पनियों के तारों को तीन दिन के अन्दर मौके से हटाये जाने के साथ ही सड़को पर लगे तारो को भूमिगत कराये जाने हेतु संबंधित विभागीय अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि निर्धारित अवधि में कार्य पूरा न कराये जाने पर संबंधित के विरूद्व एफआईआर कराये जाने के साथ ही अर्थदण्ड भी लगाया जायेगा।

बगैर अनुमति करायी खोदाई तो सीधे जेल

डीएम बुधवार को अपने कैम्प कार्यालय में दूरसंचार, मनोरंजन, एयरटेल, वोडाफोन, रिलायंस जियो एवं आइडिया कम्पनियों के प्रबन्धकों सहित अन्य विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। उन्होने सड़क के किनारे टेलीफोन के खम्भों पर झूलते तारो को दुरूस्त कराये जाने के साथ ही खाली खम्भों को भी 3 दिन के अन्दर मौके से हटाये जाने का निर्देश दिया। डीएम ने निजी संचार कम्पनियों के प्रबन्धकों को हिदायत देते हुए कहा कि सड़कों पर बिना अनुमति कही भी खोदाई किसी भी दशा में न किया जाय और यदि कही भी बिना अनुमति खोदाई पायी गयी, तो उनके विरूद्व एफआईआर कर जेल भेजा जायेगा। गौरतलब है कि मंगलवार को रात्रि में कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने शहर भ्रमण के दौरान सड़को के किनारे लक्षों में पड़े तथा सड़को पर लटकते, जर्जर केबिल एवं टेलीफोन के तारों पर गहरी नाराजगी जताते हुए जिलाधिकारी को संबंधितों के साथ बैठक कर तत्काल् हटवाये जाने का निर्देश दिया था। बैठक में नगर आयुक्त डा.नितिन बंसल, अपर जिलाधिकारी नगर वीरेन्द्र पाण्डेय, एसपीट्रैफिक सुरेश रावत सहित दूरसंचार, मनोरंजन, एयरटेल, वोडाफोन, रिलायंस जियो एवं आइडिया कम्पनियों के प्रबन्धक आदि लोग प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

admin

No Comments

Leave a Comment