डीएम ने शौचालय निर्माण की कमियों को दूर करने की निर्धारित की डेट लाइन, दुरुस्त नहीं हुआ तो प्रधान-सेक्रेटरी से रिकवरी व एफआईआर

वाराणसी। तीन माह पूर्व दिए गये निर्देश के बावजूद शौचालय निर्माण की प्रगति खराब होने पर डीएम कौशल राज शर्मा भड़क गये। नाराजगी जताते हुए उन्होंने शौचालय की कमियां प्रत्येक दशा में 31 मई, 2020 तक पूर्ण किये जाने हेतु निर्देशित करते हुए हिदायत दी कि इसके बाद भी कमी बच गयी तो जिम्मेदारी तय करते हुए सम्बंधित के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी। शुक्रवार को कैम्प कार्यालय सभागार में जिला स्वच्छता समिति की बैठक के दौरान डीएम ने चेताया है कि कमियों को सौ फीसदी दुरुस्त न कराए जाने पर ग्राम प्रधान एवं सेक्रेटरी से होगी रिकवरी और एफआईआर भी होगा।

सभी को नोटिस जारी करन ेके आदेश

डीएम ने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि इस समय हर गांव में प्रवासी मजदूर आये हैं उन्हें कार्योजित कर तेजी से कार्यों को पूरा कराया जाय। बताया गया कि स्वच्छ भारत मिशन के निर्धारित लक्ष्य 18905 के सापेक्ष 5495 पूर्ति कर लिया गया है। जनपद के 1128 राजमिस्त्रियों द्वारा कार्य किया जा रहा है। स्वच्छता कार्यक्रम के अन्तर्गत 4999 राजमिस्त्रियों प्रशिक्षण प्राप्त किया गया है, जबकि शौचालय निर्माण कार्य पर राजमिस्त्री कम कार्य कर रहे। जिलाधिकारी ने प्रशिक्षित समस्त राजमिस्त्रियों को लगाए जाने का निर्देश दिया। ग्राम पंचायत बार शौचालय के निर्माण कार्य की मनिटिरिंग ग्राम पंचायत सचिव द्वारा किया जाय।

652 लाख तत्काल अवमुक्त करने का आदेश

डीएम ने ग्राम पंचायतों में अप्रयुक्त पड़ी 652.37 लाख रुपए धनराशि को तत्काल मांग के अनुसार एनओएलबी के शौचालय निर्माण हेतु अवमुक्त किये जाने का भी निर्देश दिया। उन्होंने कड़े निर्देश देते हुए कहा कि शौचालय सत्यापन में पायी गयी कमियों को तत्काल ठीक कराया जाय, अन्यथा सम्बन्धित ग्राम प्रधान एवं सचिव से वसूली की कार्यवाही सुनिश्चित करायी जायेगी। बैठक में सीडीओ मधुसुदन हुल्गी, डीपीआरओ एवं समिति के अन्य सदस्य प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Related posts