वाराणसी। पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर एक तरफ मुख्य सचिव के निर्देशों को लेकर डीएम सुरेन्द्र सिंह ने एडवाइजरी जारी की है तो दूसरी तरफ इसे सफल बनाने के लिए संगठन लामबंद हो रहे हैं। डीएम ने स्पष्ट कर दिया है कि धरना, प्रदर्शन अथवा हड़ताल में शामिल होने की स्थिति में संबंधित सरकारी सेवक के विरुद्ध उत्तर प्रदेश सरकारी सेवक (अनुशासन एवं अपील) नियमावली-1999 के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। यही नहीं धरना, प्रदर्शन एवं हड़ताल में भाग लेने के कारण यदि संबंधित कार्मिक के द्वारा कार्य नहीं किया जाता है तो ऐसे कार्मिकों को ‘कार्य नहीं तो वेतन नहीं’ के सिद्धांत के आधार पर संबंधित अवधि का वेतन भुगतान न किया जाए। इसके साथ ही अग्रिम आदेशों तक अवकाश मांगने वाले अधिकारियों व कार्मिकों का अवकाश स्वीकृत न किया जाए। कार्यालय आने वाले कार्मिकों को संरक्षण प्रदान किया जाए तथा व्यवधान डालने वाले कार्मिकों के विरुद्ध उपरोक्तानुसार कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

सभी विभागीय अधिकारियों को भेजा है पत्र

डीएम ने सभी विभागीय अधिकारियों को पत्र लिखकर निर्देशित किया है कि मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के निदेर्शानुसार अपने नियंत्रणधीन समस्त सरकारी सेवकों तथा मान्यता प्राप्त संघ/महासंघ/परिसंघ कि प्रतिनिधियों को तदनुसार अवगत कराते हुए उक्त निदेर्शों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए। कार्य बहिष्कार अथवा हड़ताल की स्थिति में अपने विभाग से संबंधित अत्यावश्यक सुविधाएं बनाए रखें जाने की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि जो अधिकारी/कार्मिक कार्य पर उपस्थित होना चाहते हैं, उन्हें न रोका जाए। कार्यालय परिसरो एवं उनके गेटों पर किसी को न रोका जाए तथा सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने आदि के प्रयासों को कड़ाई से रोका जाए।

कलेक्ट्रेट के बगल में कर्मचारियों की बैठक

दूसरी तरफ कर्मचारी शिक्षक अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच उत्तर प्रदेश के आह्वान पर दिनांक 25 26 व 27 अक्टूबर 2018 को हड़ताल के संबंध में जनपद की समीक्षा बैठक कचहरी स्थित उद्यान विभाग में आहूत की गई बैठक की अध्यक्षता संतोष कुमार सिंह, जिलाध्यक्ष ने किया एवं संचालन राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिला मंत्री श्री श्याम राज यादव ने किया। बैठक में पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाली हेतु सरकार द्वारा कोई ठोस कार्रवाई व उचित निर्णय न लेने के कारण जनपद के लगभग लगभग सभी विभाग के कर्मचारी संगठनों के पदाधिकारियों ने आक्रोश व्यक्त किया और कहा कि कर्मचारियों को हर हाल में पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल की जानी चाहिए इसके लिए हम आर-पार की लड़ाई लड़ेंगे यदि सरकार हमारे ऊपर उत्पीड़न की कार्रवाई भी करती है तो हम सहर्ष स्वीकार करेंगे लेकिन पुरानी पेंशन व्यवस्था लेकर ही रहेंगे बैठक में सिंचाई ,कोषागार, स्वास्थ्य , माध्यमिक शिक्षा, बेसिक शिक्षा, बोर्ड आॅफिस, संभागीय परिवहन ,श्रम विभाग, व्यापार कर विभाग ,वीडीए, नगर निगम, जलकल विभाग, विकास भवन, कलेक्ट्रेट, अबकारी, सेवायोजन ,सूचना एवं जनसंपर्क, लोक निर्माण विभाग, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संघ, माध्यमिक शिक्षक संघ, प्राथमिक शिक्षक संघ ,जूनियर बेसिक शिक्षक संघ ,मदरसा शिक्षक संघ , स्टेनोग्राफर महासंघ, वाहन चालक संघ आदि विभागीय संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित रहे। हड़ताल को सफल बनाने के लिए एवं कमजोर करने वाले कतिपय लोगों के विरुद्ध महिला संगठनों ने भी अपनी तैयारी कर ली है ऐसे लोगों को मुंह तोड़ जवाब अपने सौंदर्य श्रृंगार संसाधनों से देगी जिसका नेतृत्व श्रीमती गीता अध्याय गीतांजलि राणा बीना सिंह शैल कुमारी आदि करेंगी।

admin

No Comments

Leave a Comment