बलिया। जिला सहकारी संघ के सभापति के चुनाव के दौरान गुरुवार को सपा कार्यकतार्ओं ने जमकर हंगामा किया। पूर्व मंत्री नारद राय के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने कमरे का दरवाजा तोड़ दिया। इस दौरान हाथापाई भी हुई। इसमें पूर्व मंत्री के कपड़े भी फट गए। इसके बाद दोनों तरफ से एक-दूसरे के विरोध में जमकर नारेबाजी हुई। इसके चलते काफी देर तक चुनाव स्थल पर हंगामे की स्थिति बनी रही। सिटी मजिस्ट्रेट डा. विश्राम संग पुलिस ने किसी तरह से स्थिति को नियंत्रित किया। अंतत: इस सीट पर भाजपा के राजनाथ पाण्डेय की दो मतों से जीत हुई। उप सभापति पद पर राजकिशोर पाण्डेय निर्विरोध चुने गये।

पहले से बन गयी थी भूमिका

जिला सहकारी संघ में सभापति के चुनाव के लिए टाउन हाल के सामने मतदाताओं की सूची चस्पा हो गई। दोपहर बाद चुनाव की प्रक्रिया शुरू हुई। इसको लेकर गहमागहमी का माहौल बना रहा। इसके लिए पीएसी संग भारी मात्रा में फोर्स भी तैनात थी। पूर्व मंत्री नारद राय ने वोटिंग के समय ही आरोप लगाया कि भाजपा के लोग सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रहे हैं तथा वोटरों को अपने पास बैठाये हैं। इन्ही आरोपों को लेकर नारद राय और भाजपा समर्थकों में जिसमें प्रमुख रूप से नागेंद्र बहादुर सिंह उर्फ झुन्नू सिंह (पूर्वांचल छात्र संघर्ष समिति के संयोजक) के बीच झड़प हुई। कोतवाल बलिया ने बीच बचाव किया तो नारद राय उनसे उलझ गए। नारद राय ने आरोप लगाया कि अगर उनका समर्थित सभापति प्रत्याशी हारा तो वह कोतवाल बलिया के विरुद्ध आंदोलन करने को बाध्य होंगे।

भगदड़ में कई नेता कीचड़ में सराबोर

भाजपा से राजनाथ पाण्डेय व सपा की तरफ से मीरा पाण्डेय प्रत्याशी के रूप में मैदान में थीं। चुनाव शुरू होते ही दोनों पक्षों के शीर्ष नेता अपने वोटरों के साथ पहुंचने लगे। हर दल अपने-अपने मतदाताओं को कब्जे में रखे हुए था। सपा का आरोप है कि भाजपा ने उसके समर्थक मतदाताओं को कमरे में बंद कर दिया है। उन्होंने पुलिस व भाजपा पदाधिकारियों से मतदाताओं को बाहर निकालने को कहा। इसमें हो रही देरी पर समर्थक भड़क गए। पूर्व मंत्री संग समर्थकों ने कमरे के दरवाजे को तोड़ दिया। इस दौरान पुलिस के रोकने पर हाथापाई भी हो गई। इसी बीच भाजपा पदाधिकारी भी विरोध करने लगे। इससे माहौल और गरम हो गया। दूसरे पक्ष के कार्यकर्ता कमरे से निकले तीन मतदाताओं को अपने कब्जे में लेकर जाने में सफल हो गए। इसी दौरान कांग्रेस नेता से भी नोंकझोक हुई। इस भगदड़ में कई नेता कीचड़ व नाली में भी गिर गए। सीओ अरुण सिंह व कोतवाल शशिमौलि पाण्डेय ने किसी तरह से स्थिति को नियंत्रित किया।

admin

No Comments

Leave a Comment