गाजीपुर। जनपद की बिहार से सीमा पर आए दिन ओवरलोड वाहन हादसे का सबब बन रहे हैं। ताजा मामला जमानियां कोतवाली क्षेत्र के चितावन पट्टी गांव के नेशनल हाईवे 97 का है जहां मंगलवार की भोर में सड़क किनारे वर्षों से झोपड़ी डालकर रह रहे दंपति की ट्रक से दबने की वजह से मौत हो गई। संयोग था कि मृतक रामदुलार का पिता जगलाल अपने पोते के साथ कुछ दूरी पर सो रहा था जिससे बाल- बाल बच गया। इसी दौरान महिला उमरावती देवी खेत मे काम करने के लिए जा रही थी वो भी ट्रक की जद में आ गई जो गंभीर रूप से घायल हो गई। दुर्घटना की जानकारी होने पर पुलिस के साथ ही एसडीएम जमानिया विनय कुमार गुप्ता भी मौके पर पहुंचे थे और उन्होंने ट्रक को किसी तरह हटवाकर शव को थाने पर भेजा। उन्होंने बताया कि आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। ट्रक को पुलिस ने कब्जे में ले लिया है और मुआवजे के लिए जो भी संभव होगा नियमानुसार दिलवाने का कार्य किया जाएगा।

अजन्मा भी काल के गाल में समाया

बता दें कि रामदुलार (30) अपनी पत्नी मुअली (27) के साथ झोपड़ी में सो रहा थे कि तभी सुबह लगभग 4 बजे एक गिट्टी से लदा ओवरलोड ट्रक जमानिया से गाजीपुर की तरफ जाते समय गुुजरा। ट्रक अचानक सड़क की पटरी से उतरा और उनके झोपड़ी के ऊपर पलट गया जिससे दंपति की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे की जानकारी होते ही स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और राहत व बचाव कार्य में जुट गए। बाद में पुलिस और प्रशासन आयी और उन्होंने ने भी हाथ बंटाया। हालांकि इस दौरान क्षेत्रीय लोगों का आरोप है की वहां पर पहुंचे अधिकारियों ने उनके साथ बदसलूकी की। दुर्घटना का सबसे दुखद पहलू यह रहा कि मृतक महिला गर्भवती थी।

admin

No Comments

Leave a Comment