‘दाउद’ गिरोह ने फर्जीवाड़े का रचा ऐसा खेल जिसने दिया आधार उसकी तय थी जेल, करोड़ो का किया फर्जीवाड़ा

जौनपुर। इन दिनों आनलाइन ठगी करने वाले गिरोह खासे सक्रिय हैं। शापिंग साइट से लेकर मशहूर टीवी शो समेत दूसरे हथकंड़े अपना ने वाले बैैंक खातों को मिनटों में खली कर देते हैैं। जिस खाते में रकम ट्रांसफर होती वह भी पुलिस की विवेचना में मुल्जिम होता लेकिन हकीकत उससे अलग रहती। दो-ढाई हजार रुपये के लालच में अपना आधार कार्ड देने वालों को आभास तक होता था कि वह किस जाल में फंसने जा रहे हैं। इंस्पेक्टर लाइन बाजार संजीव मिश्र ने फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के सरगना दाउस के संगसात सदस्यों को दबोचा तो चौंकाने वाले खुलासे हुए। एसपी रविशंकर छवि ने बताया कि पूर्वांचल के विभिन्न जनपदों से लेकर महाराष्ट्र तक इस गिरोह के खिलाफ मामले दर्ज हैं।

जामताड़ा गैंग के साथ मिलकर करते थे फर्जीवाड़ा

दाउद ने कबूल किया कि वह 2017 से जामताडा (झारखण्ड ) निवासी अलीमुद्दीन के सम्पर्क मे है। प्मुम्बई मे अलीमुद्दीन के सम्पर्क मे आने के बाद वहीं से आनलाइन ठगी के गिरोह का काम करना शुरू किया। अपने नीचे आठ से 10 लोगो का एक गिरोह रखता है जो गांव-गांव घूमकर नये उम्र के लड़को को दो से ढाई हजार रुपए का प्रलोभन देकर उनके आधार कार्ड से खाते खुलवाते है। खाता खुलने के बाद उन ग्रामीणो से उनका पासबुक, चेकबुक,एटीएम कार्ड एंव जिस मोबाइल नं0 से खाता लिंक होता है वह सीम कार्ड भी ले लेते है। दाऊद के द्वारा ऐसे प्रत्येक खाते के लिए सात से 7500 रुपए अपने नीचे के गिरोह के सदस्यो को दिया जाता है। दाउद इस प्रकार से प्राप्त खातो को जाम ताडा में अलीमुद्दीन अंसारी व साहबाज अंसारी उर्फ बादशाह जैसे बडे गैंग चलाने वाले जालसाजो को 10 हजार रुपए प्रत्येक खाते के हिसाब से बेच दिया जाता है। गिरोह ने  देशके विभिन्न प्रान्तों से इस प्रकार से खाते सीधे-साधे  लोगो को धोखा देकर खुलवाये जाते एंव आनलाइन ठगी करके इनके द्वारा ई वालेट मे ट्रान्सफर पैसे को इन्ही खातो मे ट्रान्सफर कर तुरन्त निकाल लिया जाता है।

कसा शिकंजा तो एटीएम का फर्जीवाड़ा

दाउद ने पूछताछ मे बताया गया कि अलीमुद्दीन को पिछले माह दिल्ली पुलिस साइबर क्राइम सेल द्वारा अजमेर राजस्थान से गिरफ्तार किया गया। इसके साथ इस गिरोह का मनोज यादव निवासी आजमगढ भी  दिल्ली मे गिरफ्तार किया गया। अलीमुद्दीन के गिरफ्तारी के पश्चात दाउद एंव इसके गिरोह के लोगो के द्वारा जामताडा झारखण्ड निवासी सहबाज अंसारी के साथ मिलकर आनलाइन व एटीएम कार्ड का पिन कोड पुछकर धोखाधड़ी किया जाने लगा। अब तक दाउद के द्वारा अपने गिरोह के सदस्यो के साथ मिलकर 250 से 300 खाते खुलवाकर जामताडा मे विभिन्न गिरोहो को बेचा गया है। इस गिरोह के द्वारा पुरे देश के विभिन्न प्रान्तो मे ठगी की गई। दाऊद की डायरी से इसके द्वारा महाराष्ट्र , गुजरात, उत्तर प्रदेश. विहार, झारखण्ड के लोगो के साथ जिन खातो से धोखाधडी किया गया उसका विवरण अंकित है। जिसकी गहनता से जांच  की जार ही है। प्रथम दृष्टया इस गिरोह के द्वारा करोडो रुपए का फ्राड किया गया है। जिसके बारे मे गहनता से जाँच की जा रही है।

Related posts