नई दिल्ली। एमएलसी बृजेश सिंह के करीबी त्रिभुवन सिंह को देश की सबसे बड़ी अदालत से राहत मिली है। बेटे शक्ति भुवन सिंह के विवाह में शामिल होने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने तीन दिनों का कस्टडी पैरोल मंजूर कर लिया है। न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल और न्यायमूर्ति इंदू मलहोत्रा की पीठ ने सुनवाई के बाद 11 से 13 मई तक का कस्टडी पैरोल मंजूर किया। इससे पहले इलाहाबाद हाइकोर्ट की पीठ ने कस्टडी पैरोल से संबंधित याचिका को खारिज कर दिया था जिससे करीबियों को आशंका थी कि बेटे के विवाह में त्रिभुवन शामिल हो सकेंगे या नहीं। आदेश की जानकारी मिलने के बाद सभी को विश्वास हो गया कि अब विवाह और प्रीतिभोज में त्रिभुवन शरीक होंगे।

एक दशक से हैं सलाखों के पीछे

मूल रूप से सैदपुर (गाजीपुर) के मुड़ियार गांव निवासी त्रिभुवन सिंह लाखों के इनामी रह चुके हैं। उन्हें बृजेश सिंह का करीबी माना जाता है। उड़ीसा में बृजेश की गिरफ्तारी के बाद त्रिभुवन ने नाटकीय ढंग से डीपीजी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था। इसके बाद से लगभग एक दशक होने को है वह जेल की सलाखों के पीछे हैं।

ट्रायल कोर्ट में पहुंचेगा आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने कस्टडी पैरोल मंजूर करते हुए इसे संबंधित ट्रायल कोर्ट को भेजा है। वहां से फोर्स से लेकर दूसरे बिन्दुओं पर आदेश जारी होगा। बेटे का विवाह विहार में होना है और बहूके आगमन पर प्रीतिभोज गाजीपुर में होगा।

admin

No Comments

Leave a Comment