वाराणसी। डीरेका परिसर में कर्मचारी नेता टीके मुकेश की हत्या के मामले में पुलिस को एक और झटका लगा है। इस मामले में आरोपी बनाये गये आशुतोष सिंह ने सोमवार को प्रभारी सीजेएम उमाकांत जिंदल की अदालत में पुलिस को चकमा देते हुए आत्मसमर्पण कर दिया। अदालत ने उसे न्यायिक अभिरक्षा में लेकर जेल भेज दिया। काशीपुरा गांव (रोहनिया) निवासी आरोपी आशुतोष सिंह के खिलाफ अदालत द्वारा 6 फरवरी को गैर जमानती वारंट जारी किया गया था। इस मामले में 8 फरवरी को रविनारायण सिंह उर्फ बबलू राय समर्पण कर चुका है जबकि बबलू राय का भाई पंकज सिंह उर्फ डबलू राय को अब गिरफ्तार करने मे पुलिस को सफलता नहीं मिली है।

डब्लू का नहीं मिल पा रहा है सुराग

डीरेका कर्मचारी परिषद के सदस्य तराधीश कुमार मुकेश की बीते 24 जनवरी को उनके आवास के समीप गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इस मामले में मंडुआडीह पुलिस ने मृतक के भाई ताराचंद कुमार की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। बाद में विवेचना के दौरान इस मामले में अमित सिंह उर्फ रिक्कू, पंकज सिंह उर्फ डब्लू राय, रविनारायन सिंह उर्फ बबलू राय, आशुतोष सिंह व रमेश राय उर्फ मटरू राय का नाम प्रकाश में आया। इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी अमित सिंह उर्फ रिक्कू को गिरफ्तार कर लिया, जबकि रविनारायण सिंह उर्फ बबलू व आशुतोष सिंह ने समर्पण कर दिया है। रिक्कू ने पुलिस के सामने कबूल किया था कि फायरिंग डब्लू ने की थी। पुलिस उसकी तलाश में बिहार तक दबिश दे चुकी है लेकिन कोई सुराग नहीं मिल सका है।

admin

No Comments

Leave a Comment