वाराणसी। डीरेका परिसर में कर्मचारी नेता टीके मुकेश की हत्या के मामले में आरोपी रविनारायन सिंह उर्फ बबलू राय ने गुरुवार को अपने अधिवक्ता अनुज यादव के जरिये प्रभारी सीजेएम उमाकांत जिंदल की अदालत में समर्पण कर दिया। अदालत ने उसका न्यायिक रिमांड बनाते हुए न्यायिक अभिरक्षा में लेकर जेल भेज दिया। समूचे घटनाक्रम में मंड़ुवाडीह पुलिस की भूमिका सवालों के दायरे में है। बबलू ने आत्मसमर्पण के लिए प्रार्थनापत्र दिया था और इस पर बाकायदा थाने से आख्या भी गयी थी। बावजूद इसके पुलिस ने कोर्ट के आसपास घराबंदी नहीं की जिसका नतीजा रहा कि बबलू ने इत्मीनान के साथ समर्पण कर दिया। एसपी सिटी दिनेश सिंह के मुताबिक बबलू को कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ की जायेगी। यहीं नहीं दूसरे आरोपित डब्लू राय और मटरू की तलाश में छापेमारी का सिलसिला जारी है।

एनबीडब्ल्यू जारी होने के बाद थेदबाव में

डीरेका कर्मचारी परिषद के सदस्य तराधीश कुमार मुकेश की बीते 24 जनवरी को उनके परिसर स्थित आवास के समीप गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इस मामले में मंडुआडीह पुलिस ने मृतक के भाई ताराचंद कुमार की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। बाद में विवेचना के दौरान इस मामले में अमित सिंह उर्फ रिक्कू, पंकज सिंह उर्फ डब्लू राय, रविनारायन सिंह उर्फ बबलू राय, आशुतोष सिंह व रमेश राय उर्फ मटरू राय का नाम प्रकाश में आया। इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी अमित सिंह उर्फ रिक्कू को गिरफ्तार कर लिया, जबकि शेष आरोपी फरार चल रहे है। पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों पंकज सिंह उर्फ डब्लू राय व आशुतोष सिंह के खिलाफ अदालत से गैर जमानती वारंट जारी कराया। इसके बाद छापेमारी का सिलसिला आरम्भ होने पर आरोपित दबाव में थे। इसका नतीजा रहा कि एक आरोपी रविनारायन सिंह उर्फ बबलू राय ने पुलिस को चकमा देते हुए अदालत में समर्पण कर दिया।

admin

No Comments

Leave a Comment