वाराणसी। आॅनलाइन हेराफेरी करने वाले ग्रामीण इलाकों के एटीएम से कार्य बदलकर या पासवर्ड देख कर सीधे लोगों को शिकार बना लेते हैं। पीड़ित इसकी गुहार थाने पर करत है तो सुनवाई ही नहीं होगी। कही दूसरे थाने तो कभी साइबर अपराध बताते हुए इसके सेल जाने की सलाह दी जाती है। ताजा मामला रसुलहा गांव (कपसेठी) निवासी कल्पनाथ सिंह पटेल का है जो अरुणाचल प्रदेश में शिक्षक हैं। इन दिनों छुट्टियों में घर आये शिक्षक उचक्कों का शिकार बन गये हैं। उनके एटीएम कोड नम्बर लेकर 90 हजार खाते में ट्रांसफर करा लिये गये। इसकी जानकारी होते ही स्टेट बैंक के कपसेठीशाखा के प्रबंधक के दी गयी तो उसने बताया कि पैसा बडागांव के बलुआ गांव निवासी एक व्यक्ति के खाते में हुआ है। फिलहाल भुक्तभोगी का मुकदमा कपसेठी, बडागांव, चौरी व झूसी थाना के चक्कर में नही लिखा जा रहा हैे

मिले अहम सुराग लेकिन पुलिस कर रही नदरंदाज

कल्पनाथ सिंह ने शुक्रवार को चौरी (भदोही) के कंधियां स्थित यूबीआई के एटीएम से दो कार्ड से 30 हजार रुपये निकाले। पैसा निकालते समय दो युवक भी पहले से थे। शुक्रवार व शनिवारको दो बार में इसके खाते से 90 हजार कोड नम्बर के माध्यम से ट्रांसफर कर लिये। शनिवार को मोबाइल पर मैसेज आते पर भुक्तभोगी स्टेट बैंक कपसेठी शाखा पहुचा और बैंक प्रबंधक से इसकी जानकारी दी तो इनका एटीएम लाक करते हुए बताया कि पैसा बलुआ (बडागांव) निवासी रमेश जायसवाल के खाते में गया है। रकम त्रिवेणीपुरम इलाहाबाद के खाते में ट्रांसफर हुआ है। जबबैक मैनेजर ने बात की तो रमेश ने बताया कि उनके पुत्र इलाहाबाद में है। फिलहाल कपसेठी पुलिस मामल ेको बडागांव जबकि बडागांव थाना चौरी भदोही और चौरी पुलिस इलाहाबाद का मामला बता कर टरका रही है।

admin

No Comments

Leave a Comment