अंबेडकर प्रतिमा के बहाने बनारस का माहौल बिगाड़ने की साजिश. सड़क पर उतरे लोग

वाराणसी। लोकसभा चुनाव के पहले बनारस की फिजा बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है. ये बात इसलिए उठी है क्योंकि चोलापुर इलाके में कुछ अराजकतत्वों ने भीम राव आंबेडकर की प्रतिमा तोड़ दी. इसके बाद पूरे इलाके में तनाव है. कुछ देर में ही लोग सड़कों पर उतर आए और हंगामा करने लगे. आक्रोशित लोगों को संभालने में पुलिस के पसीने छूट गए.

सड़क जाम कर की नारेबाजी

चोलापुर थाना क्षेत्र के औरा बाजार में भीम राव आंबेडकर की एक प्रतिमा स्थापित है. बुधवार की देर रात अराजकतत्वों ने भीम राव आंबेडकर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया. गुरुवार सुबह जब स्थानीय लोगों ने भीम राव आंबेडकर की प्रतिमा को टूटा हुआ देखा तो क्षेत्र के लोगों में गुस्सा व्याप्त हो गया. लोग सड़कों पर उतर आए और सड़क जाम कर नारेबाजी करने लगे.
ग्रामीणों ने बताया कि 2004 में भीम राव आंबेडकर की प्रतिमा को यहां पर स्थापित कराया गया था. इसके बाद बीती रात किसी अराजकतत्व ने भीम राव आंबेडकर की प्रतिमा को तोड़ दिया। लोगों ने प्रशासन से दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की. इसके बाद तहसीलदार सदर रविशंकर ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि नई प्रतिमा तुरंत स्थापित करा रहे है.

जौनपुर में भी हो चुकी घटना

दरअसल हाल के दिनों में अंबेडकर की प्रतिमा क्षतिग्रस्त करने की ये कोई पहली घटना नहीं है. इसके पहले जौनपुर में भी अंबेडकर की उंगली तोड़ दी गई थी. इस घटना को लेकर भीम सेना सड़कों पर उतरी थी. माना जा रहा है कि चुनाव के ठीक पहले इस तरह की घटना माहौल को बिगाड़ने की साजिश है.

Related posts