आजमगढ़। निकाय चुनाव की घोषणा के साथ विरोधियों को धमकाने से लेकर ठिकाने लगाने के लिए अवैध असलहों की मांग बढ़ गयी है। खरीदारों में ग्राम प्रधान से लेकर सरकारी स्कूल के अध्यापक तक शामिल है। जनपद पुलिस ने 15 पिस्टल व एक रिवाल्वर के साथ चार असलहा तस्करों को गिरफ्तार किया तो यह चौंकाने वाला खुलासा हुआ। एसपी अजय साहनी के मुताबिक बरामद असलहा दो ग्राम प्रधानो और दो सरकारी विद्यालयों के अध्यापकों द्वारा मंगाया गया था जिसका इस्तेमाल निकाय चुनाव में गड़बड़ी फैलाने के लिए किया जाना था। पुलिस ग्राम प्रधानों व अध्यापकों को जल्द गिरफ्तार करेगी। डीआईजी विजय भूषण ने तस्करों की गिरफ्तारी और बरामदगी में शामिल पुलिस टीम को 15 हजार रुपए पुरस्कार देने की घोषणा की।

158
मुंगेर से मंगाये जा रहे हैं असलहे
सरायमीर पुलिस व स्वाट टीम को सूचना मिली थी कि चुनाव में गड़बड़ी फैलाने के उद्देश्य से भारी मात्रा में असलहे मंगाये गये है। सटीक सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौके से चार असलहा तस्करों को धर दबोचा। उनके पास मिले बैग की तलाशी ली तो पुलिस को उसमें से 15 पिस्टल-एक रिवाल्वर व कारतूस बरामद हुआ। एसपी ने बताया कि नगर निकाय चुनाव में गड़बड़ी पैदा करने के उद्देश्य से भारी मात्रा में मुंगेर (बिहार) से यह असलहे मंगाये गये थे। इस असलहे की सप्लाई दो ग्राम प्रधानों व दो सरकारी स्कूल के अध्यापकों द्वारा करवाया जाता था जिनकी की जा रही है। जल्द ही इनकी गिरफ्तारी कर ली जायेगी। एसपी ने यह भी बताया कि पिछले कुछ वर्षों में इन्होने कुल लगभग 150 असलहे जनपद में इनके द्वारा सप्लाई किये गये हंै। उन्होंने बताया कि कुछ माह पहले एक ग्राम प्रधान की गोली मारकर हत्या हुई थी और एक को और गोली मारी गयी थी उसमें जो पिस्टल इस्तेमाल की गयी थी वह इन्ही लोगों के द्वारा सप्लाई की गयी थी।

admin

No Comments

Leave a Comment