जौनपुर। देश के आजाद होने बाद छह दशक तक सत्ता में रहने वाली कांग्रेस केवल गरीब और गरीबी के नाम पर सरकार बना कर देश को लूटती रही है। जब 2014 में पिछड़े वर्ग का गरीब परिवार का व्यक्ति भारत का प्रधानमंत्री बनता है और देश की सभी योजनाओं के केंद्र बिंदु में गरीब होता हैं तो उसे पचा नहीं पाती है। इसी के चलते सड़क से लेकर संसद तक नाटक करती है। जिले की प्रभारी मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने गुरुवार को कलेक्ट्रेट में आयोजित देश व्यापी उपवास के दौरान सभा को संंबोधित करते हुए विपक्ष पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यह उपवास कार्यक्रम भारत की इतिहास में पहली बार हो रहा है। पीएम मोदी ने देश की संविधान की गरिमा को तार-तार करने पर देश के सर्वोच्च संस्था द्वारा जहां कानून निर्धारण की कार्रवाई को अवरुद्ध करने पर उपवास करके अपना विरोध दर्ज करना पड़ रहा हैं। यह राष्ट्र के लिए दुखद है कि आज लोकतंत्र का मंदिर दंगल का अखाड़ा बन गया है और उसका मूल कार्य अवरुद्ध हो गया है। शर्म आनी चाहिए ऐसे जनप्रतिनिधियों को जो राष्ट्र के सर्वोच्च मंदिर में कार्रवाई अवरुद्ध करने के लिए जिम्मेदार है। भाजपा के सभी सांसदों ने 23 दिन की कार्रवाई न चलने पर 23 दिन का वेतन नहीं लेने का निर्णय लिया है। पीएम ने कहा कि यह उपवास देश के संविधान की रक्षा एवं लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए है। यदि यही स्थिति बनी रहेगी तो पार्टी आगे भी उपवास करेगी क्योंकि बिना लोकतंत्र के भारत का अस्तित्व खतरे में पड़ जायेगा।

चर्चा से भाग रहा है विपक्ष

स्थानीय सांसद केपी सिंह ने कहा कि लोकतंत्र के मंदिर को 23 दिनों तक नहीं चलने नहीं दिया गया इसके लिए दोषी कौन है? भाजपा जनता के बीच जाकर उपवास के माध्यम से पूछना चाहती है। विपक्ष ने कहा कि सरकार ने एससी, एसटी कानून को समाप्त कर रही है लेकिन जनता को बताना चाहता हूं कि देश के सर्वोच्च न्यायालय ने समीक्षा किया है। इस मुद्दे पर विपक्ष चर्चा करने के लिए भी तैयार नहीं है क्योंकि उनके पास कोई उचित तथ्य नहीं है। इस मौके पर विधायक हरेंद्र प्रसाद सिंह, विधायक रमेश चंद्र मिश्रा, विधायक दिनेश चौधरी, पूर्व विधायक सीमा द्विवेदी, मछलीशहर सांसद प्रतिनिधि विजय चन्द पटेल, क्षेत्रीय महामंत्री अशोक चौरसिया, श्याम मोहन अग्रवाल, पूर्व जिलाध्यक्ष हरिश्चंद्र सिंह, रामसिंह मौर्या, अजीत प्रजापति, किरन श्रीवास्तव, सूर्यप्रकाश सिंह मुन्ना, सतीश दुबे, राजमणि सिंह, संदीप तिवारी, पुष्पराज सिंह, पीयूष गुप्ता, मनोज दुबे, राजेश श्रीवास्तव, धर्मपाल कन्नौजिया, अभय राय, अतुल कुमार पाण्डेय, किरन मिश्रा, अनीता सिद्धार्थ, अंकित पाण्डेय, सचिन पाण्डेय, ऋषि केश तिवारी, रविन्द्र सिंह आदि लोग मौजूद रहे। संचालन जिला महामंत्री डॉ. अजय कुमार सिंह ने किया।

एक सांसद समेत दो विधायक रहे अनुपस्थित

जनपद की नौ विधानसभा सीटों में चार पर भाजपा, एक पर अपना दल एस, तीन पर सपा और एक पर बसपा है। अनशन में भाजपा के तीन विधायक ही शामिल हो पाये। बताया गया कि दो विधायक एवं एक सांसद जनपद से बाहर है इसलिए वह शामिल नहीं हो सके। सांसद रामचरित्र निषाद दिल्ली में है जबकि मड़ियाहूं की विधायक डा. लीना तिवारी के पिता की तबियत ठीक नहीं है जिससे उनके इलाज के लिए बाहर गयी हुई है। वहीं राज्यमंत्री एवं सदर विधायक गिरीश चंद्र यादव मैनपुरी में प्रभारी मंत्री है वह वहां के लिए रवाना हो गये थे।

admin

No Comments

Leave a Comment