वाराणसी। लोकसभा चुनाव में भले ही अभी एक साल से ज्यादे का वक्त हो लेकिन कांग्रेस ने तैयारियां शुरु कर दी है। मोदी के गढ़ बनारस में संगठन को मजबूत करने और कार्यकर्ताओं में जोश भरने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर सोमवार को वाराणसी पहुंचें। दोनों नेताओं ने मंडलीय कार्यकर्ता सम्मेलन में शिरकत की और मिशन 2019 के लिए कार्यकर्ताओं को मंत्र दिए। हालांकि इस दौरान वाराणसी के अंदर कांग्रेस में गुटबाजी पर दोनों नेता नाराज दिखे।

मोदी सरकार पर हमलावर हुए आजाद

सम्मेलन के दौरान गुलाम नबी आजाद केंद्र सरकार पर हमलावर दिखे। उन्होंने मोदी सरकार को आजाद के बाद सबसे कमजोर सरकार बताया। जम्‍मू-कश्‍मीर में सीआरपीएफ कैंप हुए हुए आतंकी हमले पर पूछे गये सवाल के जवाब में गुलाम नबी आजाद ने मोदी सरकार को कमजोर सरकार बताया। उन्‍होंने कहा, ”जब केंद्रीय सरकार कमजोर होगी तो ऐसे हमले होते रहेंगे।” प्रधानमंत्री के 56 इंच के सीने को भी गुलाम नबी आजाद ने कागजी सीना बताया है। बकौल कांग्रेस नेता, ”जम्मू-कश्मीर में भाजपा और मोदी की सरकार में जितने हमले हुए हैं उतने कभी भी नही हुए। इससे कमजोर सरकार 70 साल में नही देखी है।

मोदी सरकार में कोई सुरक्षित नहीं

गुलाम नबी आजाद यहीं तक नहीं रुके उन्‍होंने केंद्र सरकार की तुलना ‘जंगलराज’ से करते हुए कहा कि इस सरकार में कोई भी सुरक्षित नहीं है। उन्‍होंने कहा, ”ना तो दलितन अल्‍पसंख्‍यक और ना ही महिलाएंमोदी सरकार में कोई सुरक्षित नहीं है। मोदी सरकार हर मोर्चे पर फेल साबित हुई है। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के शब्‍दों में, ”बीजेपी की सरकार में बेरोजगारी और महंगाई बढ़ी है। किसान और नौजवानों के मुद्दे पर ये सरकार पूरी तरह से विफल रही है।” उन्‍होंने मोदी सरकार की तुलना टेलीविजन सरकार से की है।

admin

No Comments

Leave a Comment