वाराणसी। निर्माणाधीन लहरतारा-चौकाघाट फ्लाइओवर का पिलर गिरने से दो दर्जन की मौत के मौत और इससे अधिक लोगों के जख्मी होने पर शासन हरकत में आ चुका है। हादसा पीएम के संसदीय क्षेत्र में हुआ है जिससे दिल्ली से लेकर लखनऊ तक भिग्रुटि टेढ़ी है। प्रदेश सरकार ने हादसे में मरने वालों को पांच लाख तथा गंभीर रूप से घायलों को दो लाख रुपये देने के साथ मामले की जांच के लिए समिति गठित कर चुकी है। कृषि उत्पादन आयुक्त राज प्रताप सिंह, सिंचाई विभाग के चीफ इंजीनियर भूपेंद्र शर्मा तथा उत्तर प्रदेश जल निगम के एमडी राजेश मित्तल की कमेटी 48 घंटे के भीतर अपनी रिपोर्ट देगी जिसके आधार पर कार्रवाई का दौर शुरू होगा। सीएम योगी ने मरने वालों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए फौरन ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या और स्थानीय मंत्री नीलकंठ तिवारी को काशी के लिए रवाना कर दिया था।

पीएम ने ली हादसे के बारे में जानकारी

अपने संसदीय क्षेत्र में हुए हादसे को लेकर पीएम मोदी ने सीएम योगी से बात कर पूरी जानकारी ली। साथ ही हर सम्भव मदद के निर्देश दिये। पीएमओ पूरे मामले पर मजर रख रहा है। सीएम ने कैबिनेट की मीटिंग के बाद जहां केशव प्रसाद मौर्या को घटनास्थल के लिए रवाना किया वहीं देर रात खुद काशी के लिए जाने की तैयारी में जुुट गये। इससे पहले आला प्रशासनिक अधिकारियों की टीम वाराणसी के लिए रवाना किया जा चुका था।

अखिलेश ने की कार्रवाई की मांग

हादसे का एक पहलू यह भी रहा कि निर्माण एजेंसी के चयन से लेकर काम आरम्भ सपा शासन में हुआ था। बावजूद इसके पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने प्रदेश सरकार को दुर्घटना के लिए जिम्मेदार बताते हुए मारे गए लोगों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है। अपने ट्वीट में अखिलेश ने सरकार से दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग भी की है। अपने कार्यकतार्ओं से बचाव दल के संग सहयोग की अपील के साथ अखिलेश ने सरकार से अपेक्षा की वह केवल मुआवजा देकर अपनी जिÞम्मेदारी से नहीं भागेगी बल्कि पूरी ईमानदारी से जां०च करायेगी।

admin

No Comments

Leave a Comment