कलेक्टर-कप्तान को भी विवि का निरीक्षण करने की खातिर लेना पड़ा नाव का सहारा, कटहल नाले की समस्या का हल निकालने पर जोर

बलिया। बाढ़ का पानी उतर चुका है और काफी समय से बारिश भी नहीं हुई है। बावजूद इसके जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय अब भी जलजमाव की समस्या से जूझ रहा है है। दशा यह है कि गुरुवार को निरीक्षण के लिए पहुंचे डीएम श्रीहरि प्रताप शाही व एसपी देवेन्द्रनाथ नाव पर सवार हुई। दरअसल विश्वविद्यालय कार्यालय तक अभी भी करीब तीन फीट पानी लगे होने के कारण नाव के अलावा दूसरा विकल्प नहीं था। अधिकारीद्वय ने कार्यालय के मुख्य द्वार के अंदर व बाहर दोनों तरफ की स्थिति को देखा।

समस्या जानने के संग पूछा निदान

डीएम ने एसपी, एसडीएम सदर अश्विनी श्रीवास्तव व विश्विद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार के साथ समस्या के निदान पर चर्चा की। इससे क्या प्रभावित हुआ है जानने की कोशिश की। बताया गया कि विश्वविद्यालय से संबंधित समस्त रिकॉर्ड सुरक्षित हैं। समस्या के समाधान के लिए हुए मंथन के दौरान बताया गया कि जब तक कटहल नाला का अतिक्रम हटेगा नहीं, तब तक उसके बहाव की स्पीड नहीं बढ़ेगी। कहना न होगा कि सुरहा ताल में कुल आठ नाले गिरते हैं, जबकि निकलने के लिए मात्र कटहल नाला ही सहारा होता है। इस बार बारिश भी ज्यादा हो गयी, इस वजह से ताल पूरी तरह भर गया और कटहल नाला भी अतिक्रमण व सफाई नहीं होने से पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं खींच पा रहा है।

हटेगा अतिक्रमण, होगी सफाई

वहां की गम्भीर समस्या देखने के बाद डीएम-एसपी ने तय किया कि अब सख्ती से कटहल नाले से जुड़ी हर समस्या का हल निकालना सबसे जरूरी है। अगर नाले में कहीं अतिक्रमण है तो उसे सख्ती से हटवाया जाएगा। नाले की सफाई भी कराना अत्यंत आवश्यक है। इसको सिचाई विभाग द्वारा प्राथमिकता पर रख कराया जाएगा। डीएम ने स्पष्ट किया कि इस कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही अक्षम्य होगी।

Related posts