लखनऊ। गैंगस्टर छोटा राजन के शूटर खान मुबारक पूरे यूपी खासकर पूर्वांचल में अपना आधिपत्य जमाना चाहता था। वह अपनी इस कोशिश में सबसे बड़ा बाधक मऊ सदर विधायक मुख्तार अंसारी को मानता है। एसटीएफ सूत्रों पर भरोसा करें तो मुख्तार अंसारी को खत्म कर खान मुबारक यहां अपना वर्चस्व कायम करने की फिराक में लगा था। इसके पूर्व वह यूपी एसटीएफ के हत्थे चढ़ गया। दाउद इब्राहिम के दुश्मन और मुंबई के डान जफर सुपारी का छोटा भाई खान मुबारक यूपी में इन दिनों अपनी सक्रियता बढ़ाने में लगा हुआ था। गिरफ्तारी के वक्त उसके पास से एसटीएफ ने 17 असलहे बरामद किए हैं। बताया जा रहा है कि वो देश भर में छोटा राजन के गैंग के लिए शूटर का नेटवर्क तैयार करता था।

लूट के इरादे से आया था लखनऊ
एसटीएफ के डीआईजी मनोज तिवारी ने बताया कि खान मुबारक जमीन की खरीद फरोख्त में लगा हुआ था। इसने अपना खुद का एक गैंग खड़ा कर लिया था। कई सारे हथियार इसके पास से बरामद हुए हैं, जिससे लगता है कि ये किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में था। इसे लखनऊ में अंसल के बेस्ट प्राइज के पास से पकड़ा गया। ये यहां किसी व्यापारी से लूट के इरादे से आया था। इसी आधार पर इसे गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा ये भी जानकारी मिली है कि ये पिछले तीन सालों से अबू सलेम के सम्पर्क में था। अबू सलेम जब भी पेशी पर आता था तो ये उससे मिलने जाता था।

मुख्तार है निशाने पर
सूत्रों के मुताबिक खान मुबारक यूपी में अपना वर्चस्व कायम करने में लगा था। इसके लिए वो मुख्तार अंसारी के गैंग को भी खत्म करने में लगा था। बताया जा रहा है कि मुख्तार के शूटर्स को तोड़कर ये अपना गैंग बना रहा था। इसने मुख्तार के मर्डर का भी प्लान किया था, लेकिन हाई सिक्योरिटी की वजह से कामयाब नहीं हो सका। इसने मुख्तार के आने जाने के वक्त का रेकी कराने से लेकर उनके गुर्गों से मुलाकात कर मुख्तार के बारे में और जानकारी इकट्ठा की थी।

admin

No Comments

Leave a Comment