वाराणसी। पिछले कुछ समय से बंगलादेश की सीमा से आने वाले सोने की खेप कम होने पर एजेंसियां राहत की सांस ले रही थी लेकिन यह दूसरे रूप में शुरू ही नहीं हुआ बल्कि मात्रा बढ़ गयी थी। डीआरआई ने सोमवार को मुगलसराय रेलवे स्टेशन पर ब्रह्मपुत्र मेल से 9.95 किलोग्राम सोने के 60 बिस्कुट के संग चुंगलिअंजुइया और लालेंगकीम को गिरफ्तार किया तो उनसे पूछताछ में चौंकाने वाली जानकारियां सामने आयी। पता चला कि इन दिनों सोना बंगलादेश के बदले म्यामार की सीमा पार कर •ोजा जा रहा है। कोलकाता से सोना लेकर आने वाले सेकेंड क्लास में रास्ते में ट्रेन बदलते हुए सफर करते थे लेकिन अब एसी फस्ट या सेकेंड में पूरी यात्रा एक बार में करायी जा रही है। अलबत्ता एक समानता बरकरार है कि पकड़े जाने वाले कूरियर ब्वाय हैं और सरगना तो दूर गिरोह के बारे में कोई जानकारी उन्हें नहीं है। बरामद सोने की कीमत 3.22 करोड़ आंकी गयी है।
एक दिन बाद किया गया चालान
डीआरआई ने सोमवार को ही सोने के संग मिजोरम निवासी युवकों को पकड़ लिया था लेकिन चालान और कागजी कार्रवाई मंगलवार को दर्शायी गयी है। पूछताछ में गिरफ्तार युवकों का कहना उन्हें सोना पहुंचाने के एवज में 40 हजार रुपये और सफर के संग रास्ते का खर्च मिलना था। सोना दिल्ली पहुंचाने के साथ उनकी •ाूमिका खत्म हो जाती और कौन •ोज रहा या ले रहा उनके मतलब नहीं। निर्धारित पासवर्ड बताने वाले को डिलीवरी सौंप कर उनकी वापसी होनी थी।
प्यादों तक सीमित हैं एजेंसियां
गौरतलब है कि पूर्वोत्तर की सीमा से रोजाना कुंतलों में सोना सीमा पार कर दिल्ली-मुंबई •ोजा जा रहा है लेकिन किसी गैंग के बारे में सरकारी एजेंसियों को जानकारी नहीं है। वह सिर्फ प्यादों तक सीमित हैं और चालान करने के साथ कतर्व्य से अतिश्री हो जा रही है। सिर्फ मुगलसराय स्टेशन से इस साल 18 किलो सोना जब्त हो चुका है लेकिन इसके पीछे कौन है डीआरआई बताने की स्थिति में नहीं है।

admin

No Comments

Leave a Comment