चंदौली। अब तक को थाना प्रभारी द्वारा अधीनस्थों पर दबाव बनाने के मामले प्रकाश में आते थे लेकिन बुधवार की रात चकरघट्टा के हेड़ मोहर्रिर ने एसओ को ही ‘कानून’ का पाठ पढ़ा दिया। संगीन वारदात की सूचना पर एसपी संतोष कुमार सिंह ने फौरन मौके पर पहुंचने के आदेश दिये थे लेकिन मुंशी का कहना था कि नक्सली इलाके में रात को मालखाना खोल कर वह असलहा नहीं देगा। अनुशासनहीनता व कर्तव्य के प्रति लापरवाही के आरोप में एसपी ने मुंशी हे.का. अरूण कुमार पाठक को निलंबित कर दिया है। इसी तरह मारपीट में जख्मी हुए युवक की रिपोर्ट लिखने के स्थान पर सुलह का दवाब बनाने वाले मुंशी को भी निलंबित किया गया है। गुरुवार को पांच के खिलाफ निलंबन और लाइन हाजिर की कार्रवाई से महकमे में खलबली मची है।

सीओ के कहने पर भी नहीं लिखी रपट

उधर सकलडीहा के दरियापुर गांव में मनबढ़ों ने एक मजदूर की जमकर पिटाई कर दी थी। पैर में गहरी चोट के चलते पीड़ित चल भी नहीं पा रहा था। थाने जाने पर मुंशी ने रपट लिखना तो दूर मनबढ़ों से सुलह करने का दबाव बनाना शुरू कर दिया। पीड़ित ने सीओ त्रिपुरारी पाण्डेय से इसकी शिकायत की तो उन्होेंने फौरन मेडिकल करा कर मुकदमा कायम करने के आदेश दिया। मुकदमा कायम नहीं हुआ लेकिन थाने में मुंशी की करतूत सोशल मीडिया पर वायरल होन ेलगी। एसपी ने इसकी जानकारी सीओ से मांगी तो उन्होंने बताया कि दो दिन पहले ही मुकदमा कायम करने का आदेश दिया था। सीओ की रिपोर्ट पर मुंशी को निलंबित कर दिया गया।

तीन अन्य हुए लाइन हाजिर

एसपी ने बुधवार की रात भ्रमण के दौरान चन्दौली के विभिन्न थानों तथा चौकियों सहित चौराहों और पिकेट पर ड्यूटी पुलिसकर्मियों की ड्यूटी चेक की। इसमें नदारद मिले कांस्टेबिल वामदेव तिवारी व पैंथर में नियुक्त कर्मचारी  हरेराम दूबे एव सरोज कुमार चौबे को तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया गया।

admin

No Comments

Leave a Comment