कमलेश तिवारी

चन्दौली। जिले में चुनावी बिसात बिछ चुकी है। सभी पार्टियां चुनावी नैया पार लगाने के क्रम में अपने-अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतार चुकी हैं। अब इंतजार है तो आठ मार्च के उस दिन का, जब लोकतंत्र के निर्माता आम मतदाता अपने अमूल्य वोट के माध्यम से जन प्रतिनिधि को चयन करेगा। वैसे चन्दौली अस्तित्व में आने के बाद से ही अभी तक अपनी प्राथमिक समस्याओं से जूझता दिखाई दे रहा है तो वहीं दूसरी तरफ देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह का गृह जनपद होने के कारण से भी चर्चा का विषय बना हुआ है।

जिले में पिछले कई बार से चुनावी समर में मुंह की खाने वाली भारतीय जनता पार्टी के लिये जनपद की चारों सीटें प्रतिष्ठा का विषय बनी हुई हैं। पार्टी नेताओं को इस बात का पूरा इल्म है कि केन्द्र में सरकार होने के बावजूद अगर इस बार चूक गये तो फिर भविष्य में जनपद में भाजपी की राजनीतिक राह आसान नहीं रह जाएगी। इन्हीं सब के बीच भाजपा ने अपने पत्ते खोलते हुये सोमवार को जनपद के बाकी बचे तीन सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिये, जिससे भाजपा का एस  फैक्टर साफ दिखाई दे रहा है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह (अमित शाह) ने चन्दौली में एस फैक्टर पर भरोसा जताते हुये यहां की चारों सीटों पर अंग्रेजी के एस अक्षर से शुरू होने वाले नामों को अपनी लिस्ट में जगह दी है। बता दें कि भाजपा ने अपनी तीसरी लिस्ट में ही चकिया विधानसभा से बसपा सरकार में पूर्व मंत्री रहे शारदा प्रसाद का नाम जारी किया था, लेकिन उस लिस्ट में जनपद की बाकी तीन सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा नहीं हो पायी थी, जिससे बाकी बची तीन सीटों पर लोगों का इंतजार और बढ़ गया था। वहीं, सोमवार को पार्टी की तरफ से जारी चौथी और आखिरी लिस्ट में एक तरफ मुगलसराय विधानसभा से भाजपा नेत्री साधना सिंह, सकलडीहा से सूर्यमुनि तिवारी तो सैयदराजा से सुशील सिंह पर भरोसा जताते हुए उन्हें चुनाव मैदान में उतारा है। अब तो यह आने वाले समय में ही पता चलेगा कि भाजपा का एस  फैक्टर चन्दौली में क्या गुल खिलाता है।

admin

No Comments

Leave a Comment