भीषण गर्मी में गंगा पार के बूथों पर मतदान का प्रतिशत बढ़ाना चुनौती, डीएम ने बूथों का निरीक्षण कर दिया संदेश

बलिया। इस बार वोटिंग अंतिम चरण में होनी है। तापमान चरम पर रहेगा और बिहार से सटे इस इलाके में दूसरे भी पहलु ऐसे हैं जिससे मतदान कम होता है। इन पहलुओं को ध्यान में रखते हुए डीएम भवानी सिंह खंगारौत ने मंगलवार को सदर विधानसभा क्षेत्र के गंगा पार के बूथों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने बूथ पर मूलभूत सुविधाओं की उपलब्धता की जांच की। प्राथमिक विद्यालय शिवपुर दीयर और पूर्व माध्यमिक विद्यालय परानपुर का निरीक्षण करने के बाद उन्होंने ग्रामीणों से बातचीत कर शांति व्यवस्था व अन्य जानकारी ली। उन्होंने अपील भी किया कि 19 मई को सभी काम छोड़ कर अनिवार्य रूप से अपने बूथ पर जाएं और अपने मताधिकार का प्रयोग करें। डीएम ने उच्च माध्यमिक विद्यालय जबही दियर तथा पूर्व माध्यमिक विद्यालय शिवपुर दियर का भी निरीक्षण किया। एसपी देवेंद्रनाथ, एसडीएम सदर अश्विनी श्रीवास्तव, पीडब्ल्यूडी के जेई भी उनके साथ थे।

प्रशिक्षण के पहले दिन 46 कर्मी अनुपस्थित

लोकसभा चुनाव को संपन्न कराने के लिए मतदान कार्मिको का प्रशिक्षण मंगलवार से शुरू हो गया। पहले दिन टाउन डिग्री कॉलेज में एक हजार मतदान कार्मिकों को ट्रेनिंग ढ़ी गई। इसमें पीठासीन अधिकारी व मतदान अधिकारी प्रथम शामिल हुए। नोडल अधिकारी/सीडीओ बद्रीनाथ सिंह ने पूरी मतदान प्रक्रिया की विस्तृत जानकारी दी। पहले दिन 46 कार्मिक अनुपस्थित थे। सीडीओ ने इन गायब कर्मियों को सचेत किया है कि वे द्वितीय ट्रेनिंग में शामिल होकर ट्रेनिंग ले लें, वरना कार्यवाही की जायेगी। प्रशिक्षण के दौरान चुनाव की हर बारीकियों से अवगत कराया गया। सीडीओ ने कहा कि मतदान के समय सबसे पहले टोटल का बटन दबाकर देख लें कि डाले गए मत जीरो है या नहीं। मतदाता की पहचान होने, अमिट स्याही के प्रयोग एवं मतदाता रजिस्टर में उसके हस्ताक्षर या अंगूठा निशानी प्राप्त करने के बाद कंट्रोल यूनिट के बैलेट बटन को दबाएं और मतदाता को मतदान करने दें। जब तक लाल रंग का बिजी लैम्प बूझ न जाये और बीप की ध्वनी बंद न हो जाए, तब तक अन्य मतदाता को मतदान बूथ में प्रवेश न दें। मतदान के बीच-बीच में टोटल का बटन दबाकर चेक करते रहे कि डाले गये मत, मतदाता रजिस्टर की संख्या से मेल खा रहे हैं। प्रत्येक कमरे में एक जोनल, एक सेक्टर मजिस्ट्रेट और चार मास्टर ट्रेनर, जिला दिव्यांग जन सशक्तिकरण अधिकारी कृष्ण कान्त राय एवं सभी अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Related posts