नहीं रही चुनावी ‘लड़ाई’ तो शालिनी ने तेज बहादुर को बनाया ‘भाई’, प्रचार के लिए हुंकारी भी भरवायी

वाराणसी। राजनीति के रंग भी अजब है। दो दिन पहले अचानक गठबंधन की तरफ से सपा प्रत्याशी बने तेज बहादुर खुद को मोदी का प्रतिद्वंदी बता रहे थे पर्चा निरस्त होते ही पूर्व घोषित उम्मीदवार शालिनी के पक्षधर बन गये। इसके पहले एक नाटकीय घटनाक्रम के तहत गुरुवार की सुबह शालिनी यादव ने तेज बहादुर से मुलाकात की और उनसे जीत का आशीर्वाद लिया। शालिनी का कहना है कि जब ये पता चला की तेज बहादुर जी पांच भाई हैं और इनकी कोई बहन नही है तो उन्हें राखी बांध कर अपना भाई बनाया। यह बात दीगर है कि प्रेस वार्ता के दौरान दोबारा ‘रक्षाबंधन’ हुआ। शालिनी यादव को बहन बनाते हुए तेज बहादुर ने गठबंधन प्रत्याशी के रूप में समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि साजिश के तहत मेरा नामांकन खारिज किया गया है किंतु फिर भी मैं अपने इस लक्ष्य पर कायम हूं की मुझे पीएम मोदी को चुनाव में परास्त करना है जिसके लिए मैंने सपा के प्रतिबद्ध कार्यकर्ता होने के नाते गठबंधन की उम्मीदवार बहन श्रीमती शालिनी यादव को चुनाव में जिताने का संकल्प लिया है।

शालिनी की गुहार, छवि धूमिल करने का प्रयास

मीडिया से बातचीत में श्रीमती शालिनी यादव ने कहा कि मैं तेज बहादुर यादव जी का बहुत-बहुत आभार व्यक्त करती हूं तथा उनकी जो लड़ाई है, अब हम दोनों लोग मिलकर मोदी से लड़ेंगे। श्रीमती शालिनी यादव ने कहा कि उनकी छवि को धूमिल करने का प्रयास कतिपय लोवों द्वारा किया जा रहा है। इसी कारण आये दिन मीडिया व सोशल मीडिया पर मेरे बारे में तरह तरह की अफवाह फैलाई जा रही है। मैं इससे घबराने वाली नही हूं और जनता वोट के माध्यम से इनको करारा जवाब देगी।

योजना के तहत रद्द हुआ पर्चा

तेज बहादुर यादव ने कहा कि वाराणसी लोकसभा से मेरा नामांकन पत्र इस क्षेत्र के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने पूरी प्लानिंग करके निर्वाचन अधिकारियों पर दबाव बनाकर के रद्द कराया है, जबकि बीएसएफ से मेरी बर्खास्तगी में मेरे ऊपर किसी तरह का भ्रष्टाचार या देशद्रोह का आरोप नहीं है। सिर्फ अनुशासनहीनता का आरोप लगाकर मुझे सेवा से बर्खास्त किया गया था और बर्खास्तगी का कारण सहित प्रपत्र मैंने अपने पर्चा दाखिल के समय ही दे दिया था। अब मैं सपा का एक समर्पित कार्यकर्ता एवं सिपाही हूं। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी के निर्देशानुसार मैं बहन श्रीमती शालिनी यादव के चुनाव में प्रचार करूंगा तथा इस देश के करोड़ों उत्पीड़ित सैनिकों की आवाज उठाऊंगा।

Related posts