शिवपाल ने एक तीर से किये कई ‘शिकार’, गठबंधन के बाद टिकट से वंचितों की उन्ही पर टिकी आस

लखनऊ। गाजीपुर, जौनपुर, भदोही, मऊ समेत पूर्वांचल के तमाम जनपदों के सपा नेता इन दिनों पूर्व कैबिनेट मंत्री और पार्टी संस्थापकों में एक रहे शिवपाल यादव के सम्पर्क में हैं। वजह, समझौते के तहत सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष उन सीटों को भी बसपा के सुपुर्द कर दिया जिसमें पिछले लोकसभा चुनाव में पार्टी दूसरे नंबर पर रही थी। शिवपाल की पार्टी ने कांग्रेस से गठबंधन के भरसक प्रयास किये लेकिन सफलता न मिलते देख एकला चलो की राह पकड़ते हुए दूसरे छोटे दलों के साथ गठबंधन किया है। इनमें कृष्णा पटेल…

Read More

अकेले नहीं हैं हरिनारायण राजभर बल्कि कइयों के कतरे जायेंगे ‘पर’, सामने ला रहे पुराने ‘कारनामे’ टिकट चाहने वाले!

लखनऊ। एक चैनल के स्ट्रिंग में ‘काम’ के बदले ‘दाम’ के आरोप का सामना करने वाले सांसद हरिनारायण राजभर अकेले नहीं हैं। सूत्रों की माने तो कई अन्य सांसदों के पुराने ‘कारनामे’ जल्द ही सामने आ सकते हैं। भाजपा की तरफ से एक तिहाई सांसदों के टिकट कटने की चर्चा काफी दिनों से चल रही थी लेकिन ‘दाग’ सामने आने के बाद पार्टी कुछ और से किनारा कस सकती है। खास यह कि आरोपों की फेरहिस्त किसी विरोधी दल की तरफ से नहीं बल्कि पार्टी के ही लोगों की तरफ…

Read More

मायावती ही नहीं अखिलेश भी भांप चुके हैं ‘खतरा’, ट्विटर पर तंज किया ‘तगड़ा’ तो प्रियंका का पलटवार

लखनऊ। भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर के जरिये दलित वोटों में सेंध लगने के कांग्रेसी दांव को पहले ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने भांप लिया था। इसके बाद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश भी कांग्रेस के नये ‘पैंतरे’ से चौकन्ने हो गये हैं। यही कारण रहा कि दोनों ने ही कांग्रेस के ‘त्याग’ पर पलटवार करने में देर नहीं लगायी। ट्विटर से तंज किया कि कांग्रेस वोटरों को कंफ्यूज न करे। भाजपा को हराने में सपा-बसपा और रालोद का गठबंधन पूरी तरह से सक्षम है और रही बात कांग्रेस की…

Read More

फार्मूला ही नहीं एजेंडा भी ‘गुजरात’ का, बदले है किरदार-नाम और काम के तौर तरीके

लखनऊ। पिछले पांच सालों से केन्द्र की सत्ता से दूर कांग्रेस ने राहुल के नेतृत्व में काम-काज का तरीका बदला है। लोकसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश को लेकर जो परिदृश्य दिख रहा है वह पुराना फार्मूला नये रूप में सरीखा है। यह बात दीगर हैै कि किरदार के साथ ‘डायलाग’ बदल गये हैं। दरअसल गुजरात के विधानसभा चुनाव के दौरान राहुल गांधी ने वहां के तीन ‘युवाओं’ से मुलाकात की थी। हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाती। तीनों ने कांग्रेस के साथ चुनाव नहीं लड़ा लेकिन दो साल के…

Read More

सहयोगियों के ‘मोर्चे’ से भाजपा मिली राहत, अनुप्रिया अपनी सीट पर मानी लेकिन दूसरी को लेकर यह है परेशानी

लखनऊ। केन्द्र और प्रदेश की सत्ता में पिछले कई सालों से साझेदार अपना दल (एस) के पिछले कुछ समय से तेवर दिखाने शुरू कर दिये थे। सपा-बसपा के गठबंधन के बाद भाजपा को लेकर तल्ख बयानबाजियों का दौर भी शुरू हो गया था। समय बीतने के साथ गठबंधन की तरफ से भाव नहीं मिला और एयर स्ट्राइक के बाद देश में राष्ट्रवाद की लहर को भांपते हुए पांव पीछे कर लिये गये। कायसों को उस समय विराम लग गया जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से साथ अनुप्रिया की…

Read More

प्रियंका दे पायेंगी ‘भाई’ की सफाई जो कह रहा दोहरा देंगे ‘भीमा-कोरेगांव’, इधर तय हुआ दौरा उधर आया बयान

लखनऊ। कांग्रेस के लिए आरपार की लड़ाई बने इस लोकसभा चुनाव में राहुल ने अंतिम अस्त्र के रूप में बहन प्रियंका को उतार दिया है। सपा-बसपा के गठबंधन से इनकार के बाद कांग्रेस के लिए करो या मरो सरीखी स्थिति आ गयी थी। प्रियंका को राजनीति में उतारने की मांग काफी दिनों से हो रही थी और इसकी घोषणा होने के बाद ‘नाक’ से लेकर तेवर तक दादी से जोड़ते हुए अबकी चुनाव में चमत्कार का दावा किया जाने लगा। दो दिन पहले मेरठ में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर…

Read More

भले राजनीति में चंद्रशेखर की न हो इंट्री लेकिन कई दूसरों की विवादों की नींव पड़ गयी, जल्द शुरू होगा दलित राजनीति का नया अध्याय!

लखनऊ। सूबे के दलित वोटों पर एकाधिकार रखने वाली बसपा प्रमुख मायावती जहां देश के दूसरे राज्यों में पार्टी का विस्तार करने में जुटी हैं तो कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के एक दांव ने उन्हें बेचैन कर दिया। दरअसल प्रियंका गांधी के भीम सेना प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने पर मायावती ने न सिर्फ अमेठी और रायबरेली सीटों को खाली न छोड़ने का मन बना लिया बल्कि अखिलेश के साथ आगामी रणनीति पर भी मंत्रणा की। सूत्रों की माने तो अखिलेश ने कांग्रेस की दो सीटों पर प्रत्याशी खड़ा करने से…

Read More

कांग्रेस ने स्पष्ट किये तेवर कि वह गठबंंधन को नहीं दे रही वॉकओवर, परिवार के वफादार संंजय सिंह व ललितेश समेत इनके हैं नाम

लखनऊ। प्रदेश की राजनीति में प्रभावी सपा-बसपा ने देश की सबसे पुरानी पार्टी और दशकों तक सत्ता में रहने वाली कांग्रेस को दो सीट देने के साथ साफ कर दिया था कि वह इससे ज्यादा भाव नहीं देगी। इसके बाद भी भाजपा विरोधी वोटों का बिखराव रोकने की खातिर गठबंधन में शामिल करने की कोशिशे जारी रही। राहुल गांधी ने अमोघ अस्त्र के रूप में प्रियंका गांधी को मैदान में उतारने के संग यह दर्शाने की कोशिश की वह अकेले चुनाव मैदान में उतरने का मद्दा रखती है। एक दिन…

Read More

इस दलित नेता की उपेक्षा कहीं मायावती को न पड़े भारी! भीम सेना के जरिये कांग्रेस की दलित वोट बैंक में सेधमारी की तैयारी

लखनऊ। बसपा की कमान संभाल रही मायावती लगभग तीन दशकों से सक्रिय राजनीति में हैं। पार्टी के संस्थापक काशीराम ने उन्हें कमान सौंपते हुए आगे किया था लेकिन इसके बाद से बसपा में कोई दूसरा दलित नेता नहीं उभर पाया। कहा जाता है कि जिसने भी इसकी कोशिश की उसके पर इस करीने से कतरे गये कि दोबारा ‘उड़ान’ भरना नसीब में नहीं रहा। यही नहीं दूसरे दलों के भी जो नेता अनसूचित जति से आते थे उनसे बसपा के छत्तीस के रिश्ते रहे। इसका उदाहरण भीम आर्मी के संस्थापक…

Read More

छापे की चपेट में नेतराम बैकफुट पर आये दूसरे ‘राम’, लोकसभा की तैैयारियों पर लगेगा विराम!

लखनऊ। नौकरशाहों से राजनेताओं के रिश्ते किसी से छिपे नहीं हैं। पिछले डेढ़ दशक से अधिक समय जब सूबे में क्षेत्रीय दलों की सरकार रही तो यही अधिकारी सत्ता का असली सुख लेते रहे। सेवानिवृत्ति के बाद दलों में सीधे तौर पर शामिल होकर परोक्ष रूप से शासन का अंग बने रहने की चाहत अधिकांश की बनी रहती है। बावजूद इसके पूर्व आईएएस अफसर नेतराम के घर पर आयकर विभाग छापेमारी का असर राजधानी से अधिक पूर्वांचल में देखने को मिला। दरअसल उन्ही का तर्ज पर चुनावी तैयारियों में जुटे…

Read More