बाहुबली के पीछे थे ‘महाबली’! कई सीटों पर बीजेपी का टेंशन बढ़ा सकते हैं रविकिशन

लखनऊ। चुनावी शह-मात का खेल शुरू हो चुका है। प्रदेश के विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद अखिलेश को जिस गोरखपुर सीट उपचुनाव से उबरने में मदद मिली वही फार्मूला अंतत: गठबंधन का सबब भी बना। दो दिनों में घटनाक्रम कुछ इस तरह बदला कि गोरखपुर उपचुनाव का विजेता पार्टी के लिए परेशानी का सबब बन गया। सूत्रों की माने तो सीएम योगी ने अपनी परम्परागत सीट पर जीत के लिए पहले से योजना तैयार कर ली थी। इसके तहत प्रत्याशी तक ढूंढ लिया था लेकिन पार्टी के…

Read More

‘बाहुबली’ के चलते अखिलेश को लगा जोर का झटका! जिसका नाम लेकर देते फिरते थे ‘दुहाई’ एन वक्त पर मिली ‘रुसवाई’

लखनऊ। पिछले छह माह से सपा प्रमुख अखिलेश यादव प्रदेश में महागठबंधन की पटकथा लिखने के फेर में जुटे थे। शुरुआत गोरखपुर उपचुनाव के साथ हुई थी। गोरखपुर और फूलपुर के उपचुनाव में हमेशा की तरह बसपा ने प्रत्याशी नहीं उतारा था लेकिन परिणाम आने के बाद उन्होंने न सिर्फ बसपा प्रमुख मायावती का शुक्रिया अदा किया बल्कि इसे आगे जारी रखने की गुजारिश की। उनके प्रयास रंग लाये जब कैराना में भी कुछ यही कहानी दोहरायी गयी। चंद दिनों के पहले बाकायदा प्रेस कांफ्रेस कर अखिलेश ने दावा किया…

Read More

सपा का टिकट पाने में सफल रही पूजा पाल, बाहुबली अतीक अहमद ही नहीं अन्नू टंडन भी ‘बेहाल’

लखनऊ। लगभग डेढ़ दशक पहले इलाहाबाद पश्चिम से बसपा विधायक राजू पाल को सरेआम मौत की नींद सुला दिया गया था। राजू के विवाह के महज नौ दिन बीते थे और हत्या का आरोप पूर्व विधायक और सांसद बाहुबली अतीक अहमद पर था। इसके बाद बसपा की सरकार बनने के बाद जो दमनचक्र चला उससे अतीक लंबे समय तक नहीं उबर पाये। पति की मौत के बाद उपचुनाव हारने वाली पूजा पाल ने न सिर्फ 2007 में बाहुबली अतीक अहमद के भाई खालिद अजीम उर्फ अशरफ को हराया बल्कि 2012…

Read More

साध कर भोजपुरी स्टार बीजेपी ने एक तीर से किये कई शिकार, अखिलेश की बढ़ी मुश्किलें तो जौनपुर से हटा बेजा ‘दबाव’

लखनऊ। पिछली बार भाजपा मोदी लहर पर सवार थी लेकिन इस दफा एक तरफ जहां सपा-बसपा गठबंधन से चुनौती मिल रही है तो वहीं कांग्रेस की तरफ से प्रियंका के मैदान में उतरने के साथ न्याय योजना का एलान हो चला है। चुनावी मैदान में इस बार भाजपा ने भोजपुरी फिल्म स्टार को अपने पाले में खींच कर बड़ा दांव चला है। इस क्रम में फिल्म स्टार और भाजपा नेता हो चुके रवि किशन को चुनाव के मैदान में उतारने की तैयारी हो चुकी है। सीट का भले ऐलान किया…

Read More

मेनका का पति के ‘करीबी’ संजय सिंह की नहीं बल्कि पुत्र से जुड़े रहे ‘बाहुबली’ से हैं मुकाबला

लखनऊ। भाजपा ने मंगलवार को जारी सूची में केन्द्रीय मंत्री और इंदिरा गांधी की बहू मेनका गांधी को सुल्तानपुर से चुनाव मैदान में उतारा है। यहां से सांसद रहे उसके पुत्र वरुण गांधी को मां की सीट पीलीभीत भेजते हुए मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है। बगल की सीट रायबरेली से जहां जेठानी सोनिया गांधी चुनाव लड़ेगी तो वहीं सटी हुई अमेठी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का सामना भाजपा की तेज-तर्रार प्रत्याशी केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से होगा। खास यह कि काग्रेस ने यहां पर पूर्व सांसद डा. संजय…

Read More

मोदी के खिलाफ ताल ठोंकने के बाद बढ़ी निगरानी चंद्रशेखर के लिए है परेशानी, मुिखया के खिलाफ दर्ज मुकदमे में अकेले भीम आर्मी

लखनऊ। भाजपा ने स्पष्ट कर दिया हैै कि पीएम मोदी अपनी संसदीय सीट काशी से ही चुनाव लड़ेगें। दूसरी सीट बडोदरा जहां से पिछली बार लड़ा था उस पर दूसरा प्रत्याशी उतार दिया गया है। प्रदेश में गठबंधन के तहत सीट सपा के कोटे में आयी है लेकिन अब तक कोई प्रत्याशी ही तय नहीं हो सका है। पीएम मोदी सरीखे हैवीवेट प्रत्याशी के खिलाफ पिछली बार भी कांग्रेस के टिकट पर उतरे अजय राय सबकी जमानत जब्त हो गयी थी। पिछले दिनों भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर ने मोदी…

Read More

‘गठबंधन’ को लेकर मिल रही रिपोर्ट के चलते अखिलेश उतरे मैदान में! पहले किया स्टार प्रचारकों से मुलायम का पत्ता ‘साफ’ बाद में जोड़ा

लखनऊ। सपा-बसपा का गठबंधन हुए कई माह हो चुके हैं। दोनों दलों के बीच सीटों का बंटवारा ही नहीं बल्कि अपने कोटे के प्रत्याशियों की घोषणा भी की गयी है। बावजूद इसके दोनों ही दलों के कार्यकर्ता एकजुट नहीं हो पा रहे हैं। पश्चिम उत्तर प्रदेश से दोनों नेता के होने के चलते कुछ मान-मनौव्वल भी हो सका लेकिन पूर्वांचल की स्थिति सुधरने का नाम नहीं ले रही है। यहां वैसे भी बूथ पर मोर्चा यादव संभालता है दलित नहीं। इस आशय की रिपोर्ट मिलने के बाद सपा के राष्ट्रीय…

Read More

हाल बाहुबलियों का: कभी रहती थी पौ-बारह लेकिन इस बार राजनैतिक दल नहीं दे रहे पहले की तरह ‘भाव’

लखनऊ। पिछले ढाई दशकों से चुनाव विधानसभा का हो या लोकसभा। सभी की निगाहें इस पर टिकी रहती थी कि किस दल ने कौन सी सीट पर बाहुबली के रूप में किस उम्मीद्वार को उतारा है। सूबे की राजनीति में क्षेत्रीय दलों का वर्चस्व बढ़ने के बाद से मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, रमाकांत यादव, उमाकांत यादव, विजय मिश्र, धनंजय सिंह, सुशील सिंह से लेकर राजा भैय्या तक जनप्रतिनिधि बन कर बड़े सदन की शोभा बढ़ाने लगे। अरसे के बाद इस बार बाहुबली प्रत्याशियों को ‘भाव’ नहीं मिल पा रहा है।…

Read More

‘हार’ का डर या मायावती की सीधे ‘पीएम’ पद पर है नजर, स्टार प्रचारकों से दरकिनार ‘अंसारी परिवार’

लखनऊ। बसपा सुप्रीमों मायावती पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनावों में मिले झटके से पूरी तरह से उबर नहीं पायी हैं। लोकसभा में तो पार्टी का खाता तक नहीं खुला था जबकि विधानसभा में सत्ता की वापसी के दावों के बीच बमुश्किल डेढ़ दर्जन सीटों पर जीत मिल सकी थी। ऐसे में सपा के साथ ढाई दशक पुरानी रार खत्म करते हुए उन्होंने न सिर्फ गठबंधन किया बल्कि सीटों के चयन से लेकर दूसरे पहलुओं का पूरा ध्यान रखा। बावजूद इसके वह चुनाव मैदान में उतरने से बच रही है। माना…

Read More

एनआरएचएम घोटालों के ‘दाग’ पर है कांग्रेस को पूरा विश्वास, आंकड़ों को आधार मान कर दी गयी सीट!

लखनऊ। कुछ साल पहले एनएचआरएम घोटालों में नाम आने के बाद बसपा से निकाले गये बाबू सिंह कुशवाहा ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी तो सबसे अधिक तंज कसने वाली कांग्रेस पार्र्टी थी। उस समय केन्द्र और प्रदेश में भाजपा की सरकार तक नहीं थी लेकिन कांग्रेस ने पूर्व कैबिनेट मंत्री को तंज कसने के लिए माध्यम बना लिया था। चुनाव में हार के बाद भाजपा ने बाबू सिंह कुशवाहा से दूरी बना ली जिसके बाद उन्होंने जन अधिकार मंच का गठन किया था। पिछले लोकसभा चुनाव बगैर किसी…

Read More