सीएए किसी संप्रदाय नहीं बल्कि संविधान के खिलाफ, लेफ्टीनेंट के बाद प्रियंका वाड्रा का सीधे अखिलेश पर हमला

आजमगढ़। सीएए, एनआरसी व एनपीआर के खिलाफ प्रदर्शन के दौराना हुए लाठीचार्ज में घायल लोगों से मिलने बुधवार को बिलरियागंज पहुंची कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा ने केंद्र व प्रदेश सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का नया कानून किसी संप्रदाय नहीं बल्कि संविधान के खिलाफ है। प्रियंका ने कहा कि सीएए, एनआरसी के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं खुद उठने वालीं थीं लेकिन पुलिस ने जानबूझकर ज्यादती की। रात में पार्क में पानी छोड़ा गया तो बर्बर तरीके से लाठीचार्ज की गयी। यह पूरी तरह संविधान व मानवता के खिलाफ है। बिलरियागंज में हुए जुल्म के बाबत मानवाधिकार आयोग से नाम सहित शिकायत करूंगी ताकि कोई दोषी बचने न पाए। किसी भी हालत में किसी को मनमानी नहीं करने दी जाएगी।

आरक्षण को लेकर भी किया नजरिया साफ

मौजूद लोगों को संबोधित करने के लिए प्रियंका वाड्रा अपनी गाड़ी पर खड़ी हो गई। प्रियंका ने कहा कि बीजेपी संविधान तोड़ने का काम कर रही है और अगर हम आप नहीं संभले तो यह गलत होग। वहीं आरक्षण पर बोलते हुए उनका कहना था बीजेपी ने आरक्षण के मामले पर भी संविधान तोड़ने का काम किया। जो कानून लागू करने की वह लोग बात कर रहे हैं वह एक समुदाय नहीं बल्कि पूरे संविधान के खिलाफ है। वह अपनी आजमगढ़ की रिपोर्ट जल्द ही भेजेंगी ताकि यहां के लोगों के साथ न्याय हो सके

अखिलेश को लेकर दिखी नाराजगी

वहीं प्रियंका गांधी से मिली प्रदर्शनकारियों का कहना था कि प्रियंका ने यहां आकर उम्मीद का काम किया है। इन लोगों को उम्मीद है कि उनको जल्द से जल्द मिलेगा। इतना ही नहीं उन्होंने अपना गुस्सा भी अखिलेश यादव के खिलाफ जाहिर किया। उनका कहना था कि चुनाव के समय अखिलेश यादव आजमगढ़ को अपना घर बता रहे थे। जब आजमगढ़ की महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ तो उन्होंने इस पर कोई रिएक्शन क्यों नहीं दिया। कुल मिला कर सपा सुप्रीमो को उनके संसदीय क्षेत्र में घेरने के लिए प्रियंका की कोशिशे रंग लाती दिख रही हैं।

Related posts