गाजीपुर। जमानिया क्षेत्र में चंद रोज पहले श्री प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना दादा और शुक्रवार को आसिफ खान (22) की गोली मार कर हत्या में एक समानता थी। दोनों ही विधानसभा चुनाव में बसपा प्रत्याशी रहे अतुल राय के कट्टर सर्थक थे। मुन्ना दादा तो लंबे समय तक सपा में थे लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान अतुल राय का साथ पकड़ लिया था। एक के बाद एक हो रही वारदात को अंजाम देने वाले हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर बसपा नेता अतुल राय ने सैकड़ों ग्रामीणों एवं आसिफ के परिजनों के साथ नेशनल हाईवे 24 पर चक्का जाम कर दिया। इस दौरान आक्रोशित भीड़ ने आरोपियों को गिफ्तारी करने की मांग करते हुए प्रशासन के खिलाफ जोरदार नारेबाजी भी कर रही थी। प्रमुख मांगों में हत्यारो की गिरफ्तारी एवं 25 लाख मुवावजे के साथ साथ जमानिया कोतवाल के निलंबन था।

फोन कर बुलाया था हमलावरों ने

आसिफ जुमे की नमाज के बाद बरुईन गांव स्थित घर पर था। दोपहर साढ़े तीन बजे फोन कर उसे कुछ लोगों ने बुलाया। दिनदहाड़े में मेन रोड पर हमलावरों ने गोली मार दी। वाराणसी ले जाते समय बीच रास्ते आसिफ की मौत हो गयी। चक्का जाम की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अमले में जमानिया एसडीएम एवं सीओ जमानिया हमराहियों के साथ पहुंचे। बसपा नेता अतुल राय से पत्रक लेने के तत्पश्यात यह बताया कि अभी अभी एक नामजद अभियुक्त की गिरफ्तारी हो गयी है एवं 48 घंटे के भीतर अन्य आरोपियों की गिरफ्तार के आश्वासन दिया इसके तदोपरांत चक्का जाम समाप्त हुआ। देर शाम तक एक अन्य आरोपित को हिरासत में ले लिया गया था।

डॉन की ससुराल में हुई वारदात

गौरतलब है कि लाखों के इनामी और कई प्रदेशों की पुलिस के लिए चुनौती रहे संगीन मामलों के आरोपित एमएलसी बृजेश सिंह की ससुराल बरुईन गांव (जमानिया) ही है। शुक्रवार को अंधाधुंध फायरिंग का निशाना बना आसिफ खान को अतुल राय का समर्थक माना जााता है। अतुल राय लंबे समय से अंसारी परिवार से जुड़े हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment