आजमगढ़। नरवें गांव (बरदह) में शुक्रवार की अल सुबह घर के अंदर आंगन में सो रहे अखिलेश गौतम (25) की हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसका बड़ा भाई अरविन्द था। अखिलेश गौतम दिल्ली के नजबगढ़ में परिवार के साथ रहता था और अपने बड़े भाई अरविंद के साथ दिल्ली में ही बिल्डर का काम करता था। चार-पांच दिनों पूर्व ही दोनों भाई गांव स्थित अपने घर आए थे। परिवार के अन्य सदस्य दिल्ली में ही मौजूद थे। इस घटना के बाद पुलिस प्रशासन ने मामले का खुलासा करने के लिए कई टीमों का गठन किया पुलिस टीम लगातार घटना से संबंधित हर पहलू पर अपनी पहली नजर गड़ाए हुए थी। एसपी सिटी सुबाषचंद्र गंगवार ने मीड़िया को बताया कि अरविंद ने कबूल किया कि वह अपने भाई की कोर्ट मैरिज से नाराज था। कुछ दिनों पहले दोनों भाइयों में तू तू मैं मैं भी हुई थी। योजना के तहत अपने गनर से विल्वर मंगा कर उसने हत्या की और अज्ञात बदमाशों पर आरोप लगा दिया।
दो साल पहले की थी शादी, साथ रखना चाहता था
पुलिस अधीक्षक नगर के मुताबिक अखिलेश ने अपने कॉलेज में पढ़ने वाली एक लड़की से 2015 में शादी कर ली थी और दोनों अपने परिवारों से छुपकर मिला करते थे। कोर्ट मैरिज के बाद अखिलेश दिल्ली में आवासीय अपने परिवार के साथ रहना चाहता था लेकिन दोनों परिवार वालों को यह स्वीकार नहीं था। घटना से पांच दिन पहले अखिलेश का बड़ा भाई अरविंद अपने ड्राइवर और दो प्राइवेट गनर के साथ गांव आया और अपने छोटे भाई अखिलेश को भी गांव पर बुला लिया मामले में सुलह समझौते के भी प्रयास किए गए लेकिन वह सफल नहीं हुआ और दोनों भाइयों में जमकर कहासुनी हुई जिसके बाद अरविंद ने एक साजिश के तहत अखिलेश की हत्या कर दी
लखनऊ में मिली युवती की लाश
पुलिस के मुताबिक जिस लड़की से अखिलेश ने कोर्ट मैरिज की थी उसकी डेड बॉडी भी शनिवार को लखनऊ में किसी रेलवे ट्रैक पर कटी हुई मिली। पुलिस ने इस बात की भी आशंका जताई है कि दोनों भाइयों के पास पर्याप्त जमीन था और हो सकता है कि सम्पति के लालच में भी यह हत्या की गई हो। अखिलेश की मौत के बाद पत्नी इसके लिए दावा कर सकती थी जिहाजा उसे भी रास्ते से हटा दिया गया हो। इस बाबत लखनऊ पुलिस से सम्पर्क किया गया है।

admin

No Comments

Leave a Comment