वाराणसी। मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के दोनों बेटे एक फिर से चर्चा में हैं। बड़े बेटे अब्बास अंसारी और छोटे बेटे उमर अंसारी ने निशानेबाजी के मैदान में अपना लोहा मनवाया है। दिल्ली में आयोजित 300मीटर बिग बोर राइफल जूनियर शूटिंग टूर्नामेंट में छोटे बेटे उमर अंसारी ने जहां 600 में से 561 अंक हासिल कर राष्ट्रीय शूटिंग टीम में क्वालीफाई किया और देश में पांचवां स्थान प्राप्त किया । वहीं आज बड़े बेटे अब्बास ने बिग बोर राइफल राष्ट्रीय शूटिंग चैम्पियनशिप के लिये 600 में 520 अंक हासिल कर राष्ट्रीय टीम के लिये क्वालीफाई किया है। अब्बास अंसारी लगातार तीसरे साल राष्ट्रीय टीम के लिये क्वालीफाई हुए जबकि उमर अंसारी ने पहली बार में ही राष्ट्रीय टीम में क्वालीफाई हो गये।

दोहरी खुशी के बाद मऊ में जश्न का माहौल

इस दोहरी खुशी के बाद मऊ में जश्न का माहौल है। अंसारी परिवार के समर्थकों ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया। इस दौरान मऊ और घोसी स्थित बीएसपी दफ्तर में भी खुशियां मनाई गई। इस मौके पर अब्बास अंसारी के प्रतिनिधि बृजेश जायसवाल ने कहा कि दोनों भाइयों ने गाजीपुर और मऊ के साथ-साथ पूरे उत्तर प्रदेश का मान बढ़ाया है। ये हम सभी के लिए गौर्व की बात है कि एक नहीं बल्कि अब दो बेटे राष्ट्रीय क्षितिज पर मऊ का नाम रौशन करेंगे।

सियासी पिच पर भी मनवा चुके हैं लोहा

अब्बास और उमर सिर्फ निशानेबाजी में ही नहीं बल्कि सियासी मैदान में भी अपना लोहा मनवा चुके हैं। पिता मुख्तार अंसारी की गैरमौजूदगी ने दोनों बेटों ने बखूबी परिवार की सियासी विरासत को संभाल रखा है। पूर्वांचल की सियासत में अब्बास ने युवाओं के बीच अच्छा खासा जनाधार बना लिया है। एक परिपक्व राजनीतिक की तरह वो आगे बढ़ रहे हैं। यही कारण है कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने भी उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी है।

admin

No Comments

Leave a Comment