भाजपा ने एसपी के खिलाफ मोर्चा खोला, पूर्व सांसद के खिलाफ रपट दर्ज कराने का मामला तूल पकड़ा

मीरजापुर। शहर कोतवाली में भाजपा के मीरजपुर-सोनभद्र के पूर्व सांसद राम शकल के खिलाफ शनिवार की रात सरकारी कामकाज में बाधा डालने व बदसलूकी करने का मामला गरमाता जा रहा है। फतहां चौकी प्रभारी अश्वनी चौबे की तहरीर पर दर्ज रिपोर्ट की जानकारी होने पर भाजपा जिलाध्यक्ष बालेंदुमणि त्रिपाठी ने एसपी आशीष तिवारी से बात कर सुलह समझौता कराने की कोशिश की पर बात नहीं बनी। पुलिस के अड़ियल रवैए के विरोध में रविवार को भाजपा जिला इकाई के पदाधिकारियों ने बैठक कर गहन विचार विमर्श किया। फैसला किया गया कि इस मुद्दे से हाईकमान को अवगत कराने के साथ ही एसपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाएगी।

अपनी सरकार में भाजपा नेताओं का उत्पीड़न

बैठक में वक्ताओं का कहना था कि केन्द्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के बावजूद थाने-चौकियों में पार्टी नेताओं को कोई तवज्जों नहीं मिल रही है। यही नहीं उल्टे भाजपा कार्यकतार्ओं का उत्पीड़न भी किया जा रहा है। इसी मामले को लेकर शनिवार को पूर्व सांसद राम शकल फतहां चौकी पर पहुंचे तो प्रभारी अश्वनी त्रिपाठी से उनका विवाद हो गया। यह मामला इतना बढ़ गया कि सांसद ने चौकी प्रभारी को गाली देने के साथ ही एसपी को भी देख लेने की धमकी दे दी। समूचा प्रकरण पुलिस चौकी में लगे सीसी टीवी कैमरे में रिकार्ड हो गया। इस घटना के बाद चौकी प्रभारी ने सीसी कैमरे की फुटेज एसपी आशीष तिवारी को दिखाया तो उन्होने तत्काल चौकी प्रभारी को आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश देने के बाद खुद अवकाश पर चले गए। यहीं नहीं पुलिस ने पूर्व सांसद के फुटेज को वायरल भी कर दिया। मामला दलित नेता से जूड़ा होने के कारण स्थानीय भाजपाई भी सकते में पड़ गए। उन्हें भी मजबूरन एसपी और आरोपित चौकी प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रदेश हाईकमान से मांग करनी पड़ रही है।

Related posts