वाराणसी। कोर्ट में मिथ्या साक्ष्य देकर वन प्लेस ग्रुप के निदेशक रणविजय सिंह के खिलाफ धोखाधड़ी की प्रथमिकी दर्ज कराने वाली महिला डा. टी लक्ष्मी के खिलाफ सीजेएम ने मुकदमा दर्ज करते हुए सीआरपीसी की धरा 340 की नोटिस जारी करते हुए 17 जुलाई को कोर्ट में तलब किया है। आरोपी रणविजय सिंह के अधिवक्ता प्रियरंजन तिवारी के मुताबिक वादिनी टी लक्ष्मी ने कोर्ट में तथ्यो को छिपाकर 156 (3) के तहत धोखाधड़ी, छलकपट,कूटरचना के आरोप में कोर्ट के आदेश पर कैंट थाने में प्रथमिकी दर्ज कराई थी।

रकम में भिन्नता मिलने पर हुआ आदेश

इस पर आपत्ति जताते हुए कोर्ट में आवेदन देकर कहा गया की वादिनी की तरफ से दो नोटिस दी गई थी। इसमे एक में 45 लाख देने की बात कही गई जबकि दूसरे में 41 लाख 95 हजार देने की बात कही गई। इन तथ्यो को वादिनी ने छिपाकर आवेदन दाखिल किया गया जो एक गम्भीर अपराध है और कोर्ट के साथ छलावा है। ऐसे में वादिनी के खिलाफ तथ्यो की जांच के लिए 340 के तहत नोटिस जारी कर दण्डित करे। अदालत ने इन तथ्यो को संज्ञान में लेकर मुकदमा दर्ज कर नोटिस जारी कर वादिनी को 17 जुलाई को तलब किया है। वादिनी का आरोप था की उसने डुप्लेक्स फ्लैट नटीनियादाई में बुक कराया था। बाद में फ्लैट कैंसिल होने पर पैसे के लेन-देन के विवाद पर कोर्ट में मुकदमा दाखिल किया गया था।

admin

No Comments

Leave a Comment