वाराणसी । पिछले माह चौकाघाट स्थित सांस्कृतिक संकुल में मिनी सदन की बैठक के दौरान महापौर मृदुला जायसवाल पर हमला, तोड़फोड़ व सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आरोपी सभासदों समेत 11 लोगों की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। आरोपियों के अधिवक्ता अनुज यादव के अनुसार कैंट पुलिस की अर्जी पर पांच अप्रैल को सात सभासदों समेत आठ लोगों के खिलाफ सीजेएम कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया था। इस मामले में सभासद सीताराम केसरी (गोलादीनानाथ),कमल पटेल (नरिया), अजीत सिंह (राजमंदिर), अंकित यादव (पानदरीबा), प्रशांत सिंह पिंकू ( जगतगंज), मनोज कुमार यादव (दारानगर), मो. सलीम,अफजल अंसारी,रियाजुद्दीन,संजय उर्फ कालू चक्रवर्ती के अलावा नई सड़क निवासी पूर्व सभासद अरशद उर्फ लड्डू ने अपनी गिरफ्तारी पर रोक के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा वह न्यायमूर्ति डी के सिंह की खंडपीठ ने पुलिस द्वारा आरोप पत्र दाखिल करने तक आरोपियों की गिरफ्तारी पर रोक लगाने का आदेश दिया है। हाईकोर्ट ने यह भी कहा है कि इस दौरान आरोपी विवेचना में पुलिस का सहयोग करेंगे।

पुलिस ने दर्ज किये थे दो मुकदमे

गौरतलब है कि मिनी सदन के उपनेता भाजपा राजेश कुमार जायसवाल ने 24 मार्च 2018 को कैंट थाने में तहरीर दी थी। आरोप था कि 24 मार्च को सांस्कृतिक संकुल में मिनी सदन की बैठक चल रही थी। उसी दौरान बैठक में मौजूद सभासदों और उसके सहयोगियों ने महापौर की टेबल कुर्सी एवं आसपास की सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने व अफरा-तफरी का माहौल पैदा करते हुए महापौर पर हमलावर हो गए । उनकी सरकारी गाड़ी में तोड़फोड़ करते हुए गालियां देने लगे और मारपीट पर उतारू होकर सांस्कृतिक संकुल भवन से लेकर तेलियाबाग चौराहे तक हमले का प्रयास किये। इस दौरान बीच-बचाव करने पहुंचे सरकारी स्टाफ व पुलिसकर्मियों के साथ भी मारपीट की गयी। इस मामले में पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ अलग- अलग दो मामले दर्ज किए थे।

admin

No Comments

Leave a Comment