वाराणसी। बीएचयू में भारत का सबसे बड़ा ट्रॉमा सेन्टर है। यहां आये दिन वीवीआईपी इलाज कराने की खातिर आते रहते हैं। बावजूद इसके किसी का मेडिकल बुलेटिन अमूमन जारी नहीं होता। बीएचयू ट्रॉमा सेन्टर में एमएलसी बृजेश सिंह भी लगभग तीन सप्ताह से भर्ती हैं लेकिन शनिवार को पीआरओ की तरफ से उनका मेडिकल बुलेटिन जारी किया गया। ट्रॉमा सेन्टर के प्रभारी प्रो. संजीव कुमार गुप्ता ने बताया कि बृजेश सिंह के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। चिकित्सा विज्ञान संस्थान बीएचयू के आथोर्पेडिक्स युनिट द्वारा उनके बांए पैर में उंगलियों की सर्जरी करके के-वायर डाला गया है। इस प्रकार की सर्जरी में घाव ठीक होने में समय लगता है। गौरतलब है कि पिछले दिनों बीएचयू में इलाज को लेकर राकेश न्यायिक ने कोर्ट से नोटिस भेजी थी। यही नहीं विरोधी भी बीएचयू में भर्ती होने को लेकर सवाल उठा रहे थे। माना जाता है कि इसके बाद मेडिकल बुलेटिन जारी हुआ है।

मधुमेह के चलते घाव भरने में लगा समय

प्रो. संजीव कुमार गुप्ता ने बताया कि केन्द्रीय कारागार वाराणसी के चिकित्सक द्वारा रेफर करने के बाद एमएलसी बृजेश सिंह को आथोर्पेडिक्स युनिट के अन्तर्गत ट्रॉमा सेन्टर में भर्ती कर पहली जनवरी को सर्जरी की गयी थी। बृजेश सिंह को मधुमेह की भी बीमारी है, जिसे नियंत्रित कर सर्जरी की गयी है। मधुमेह के चलते इस प्रकार की सर्जरी होने की वजह से घाव भरने में समय लगता है। उन्होंने बताया कि एमएलसी को जब भर्ती किया गया उस समय उनका सुगर बढ़ा हुआ था जिसे नियंत्रित करके सर्जरी की गयी। बीएचयू ट्रॉमा सेन्टर में पूर्वांचल ही नहीं बल्कि बिहार, झारखण्ड, मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ तथा नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्र के मरीज इलाज कराने आते हैं। यहां सुपर स्पेशियलिटी के विशेषज्ञों के साथ-साथ अत्याधुनिक उपकरण मौजूद है।

admin

No Comments

Leave a Comment