मीरजापुर। गंंगा नदी पर भटौली (कछवां) में बना पीपा पुल हादसों का पर्याय बन गया गया ह। मंगलवार को इंडिको कार रेलिंग तोड़ कर गिरी थी को बुधवार की दोपहर साढ़े तीन बजे स्कार्पियो अनियंत्रित होकर उसी तरह गंगा में समा गयी। स्कार्पियो पर सवार सगे भाई समेत तीन लोग लापता हैं, जबकि एक व्यक्ति तैर कर बाहर आ गया। हादसे के बाद पुलिस-प्रशासन में खलबली मच गयी और आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। शाम चार से 7 बजे तक चले रेस्क्यू आपरेशन के दौरान रस्सा टूटने से स्कार्पियो को निकालने की कोशिशें तीन बार बेकार हुईं। गुरुवार की सुबह एनडीआरएफ की टीम को बुला कर आपरेशन चलाया जाएगा। रात तक लापता लोगों का सुराग नहीं मिल सका था।
रिश्तेदारी से लौट रहे थे हादसे का शिकार
भिखारीपुर गांव (कपसेठी) निवासीबिंद्रा कन्नौजिया ने अपन पुत्री नेहा की शादी देहात कोतवाली के मझिगवां निवासी गुलाब चंद्र कन्नौजिया के बेटे सोनू कन्नौजिया के साथ की थी। बुधवार को बिंद्रा ने गांव के दिनेश राजभर (35) की स्कार्पियो बुक करके दोनों बेटों करन (12) और रोशन (8) को पुत्री के घर टीवी लाने के लिए भेजा था। सुबह 10 बजे दिनेश गाड़ी लेकर मीरजापुर के लिए रवाना हुआ। रास्ते में एक रिश्तेदार भरत राजभर (30) को भी दिनेश साथ में ले लिया। दोपहर बाद वापसी के दौरान साढ़े तीन बजे गाड़ी भटौली पीपा पुल के बीच में अनियंत्रित हो गई और रेलिंग तोड़ते हुए गंगा में गिर पड़ी। गाड़ी की अगली सीट पर बैठा भरत शीशे से बाहर निकल कर तैरते लगा। उसे देखते ही मांझी मंगला साहनी व बसनी साहनी नाव लेकर पहुंचे और उसे बचा लिया। दिनेश भी किसी तरह पानी के ऊपर आया लेकिन तैरना नहीं जानने के कारण डूब गया। हादसे की सूचना मिलने पर डीएम का कार्यभार देख रही सीडीओ प्रियंका निरंजन, एएसपी नगर प्रकाश स्वरूप पांडेय, एसडीएम सदर अरविंद चौहान, तहसीलदार विकास पांडेय, सीओ सदर बृजेश तिवारी तट पर पहुंच गए। प्रशासन ने गाड़ी निकलवाने के लिए सेतु निगम का स्टीमर मंगवाया। नाविकों की मदद से गाड़ी में रस्सा बांध कर उसे बाहर निकालने का प्रयास गया।

admin

No Comments

Leave a Comment