लखनऊ। बसपा के राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शनिवार को सुप्रीमो मायावती ने रामअचल राजभर को हटाकर आरएस कुशवाहा को नया प्रदेश अध्यक्ष बनाने की घोषणा की है। रामअचल राजभर को राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया। आरएस कुशवाहा की गिनती बहन जी के वफादार कार्यकर्ताओं में होती है। पार्टी के मुसीबत में बाबू सिंह कुशवाहा, स्वामी प्रसाद मौर्या ने बसपा छोड़ दिया था लेकिन आरएस कुशवाहा पार्टी से जुड़े रहे। आरएस कुशवाहा ने हाईकमान के आदेश पर पूरे प्रदेश में कुशवाहों को बसपा के पक्ष में लामबंद किया।

पिछड़ों को जोड़ने की कवायद

बसपा सुप्रीमो मायावती का इस निर्णय की चर्चा राजनीतिक गलियारों में जोरों पर हैं। बहन जी ने एक तीर से दो शिकार किया है। पहला भाजपा को झटका देते हुए कुशवाहा समाज को एक बार फिर सम्मान देकर हाथी पर चढा़ने का प्रयास किया है। आरएस कुशवाहा के प्रदेश अध्यक्ष बनते ही कुशवाहा समाज की राजनीति एक बार फिर गरमा गयी है। बाबू सिंह कुशवाहा व स्वामी प्रसाद मौर्या की वापसी की चर्चा पर भी विराम लग गया है। आरएस कुशवाहा को प्रदेश अध्यक्ष बनाये जाने पर पूर्व जिलाध्यक्ष रामप्रकाश गुड्डू ने बधाई दी है।

admin

No Comments

Leave a Comment