सीएम के आगमन से पहले पुलिस ने दो इनामियों में मुठभेड़ में दबोचा, तीन दिन पहले फायंिंरंग कर फैलाया था आतंक

वाराणसी। पिछले दिनों सदर तहसील में बबलू सिंह की हत्या में शूटरों की धर-पकड़ में जुटी पुलिस को 12 अक्टूबर की रात पियरी (चौक) क्षेत्र में हुई एक वारदात ने हलकान कर दिया। बदमाशों ने पिस्तौल से अंधाधुंध फायरिंग कर तीन लोगों को घायल कर दिया था। शहर के हमेशा व्यस्त रहने वाले घनी आबादी के इलाके में वारदात को अंजाम देने वालों की पड़ताल में इलाके के कुख्यात बदमाश लोटन पाल और गजनी उर्फ शुभम सेठ का नाम प्रकाश में आया था। एसएसपी आनंद कुलकर्णी के निर्देश पर क्राइम ब्रांच ने बदमाशों की धर पकड़ के निर्देश दिये थे। क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह सटीक सूचना पर मंगलवार की देर शाम जेएचवी मॉल के समीप मुठभेड़ के दौरान 25 हजार के इनामियों को धर-दबोचा। दोनों को गोली लगी है लेकिन दशा खतरे के बाहर बतायी गयी है।

सगीन मामलों के आरोपित रहे हैं इनामी

पुलिस रिकार्ड के मुताबिक लोटन व गजनी के खिलाफ शहर के विभिन्न थानों में कई मामले दर्ज हैं। दोनों ही पहले भी कई दफा जेल जा चुके हैं लेकिन जमानत पर छूटने के बाद एक बार से जरायम जगत में सक्रिय हो जाते हैं। क्राइम ब्रांच ने छावनी क्षेत्र में इनकी मौजूदगी की सूचना पर घेराबंदी की थी लेकिन पुलिस पर गोलियां चलाते हुए दोनों ने भागने की कोशिश की। जवाबी फायरिंग में दोनों इनामी घायल होकर बाइक समेत गिर गये। उनके पास से लूट की बाइक, दो अवैध पिस्टल व कारतूस बरामद हुआ है। मुठभेड़ की सूचना मिलने पर एसएसपी के अलावा एसपी सिटी दिनेश सिंह, एसपी क्राइम ज्ञानेन्द्रनाथ प्रसाज, सीओ कैंट का कार्यभार देख रहे एएसपी डा. अनिल कुमार के अलावा दूसरे अधिकारी मौके पर पहुंच गये थे।

Related posts