वाराणसी। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी में मगलवार की शाम दिल दहला देने वाला हादसा हुआ है। निर्माणाधीन लहरतारा-चौकाघाट फ्लाइओवर के एक पिलर की बीम कमलापति त्रिपाठी इंटर कालेज के सामने गिर गया। हादसा जिस समय हुआ ट्रैफिक चल रहा था और जिस स्थान पर पिलर गिरा वहां जाम के चलते वाहनों की कतार लगी थी। दुर्घटना के बाद अफरा-तफरी मच गयी और काफी दूर तक लोग अपने वालों को छोड़कर भागने लगे। एक तरफ घायलों की चीख पुकार थी तो दूसरी तरफ निर्माण कार्य मे लगे मजदूरों से लेकर अधियंता तक वहां से पलायित हो गये। मौके की हालात देख कर रोंगटे खड़े गये क्योंकि पिलर के नीचे एसयूवी समेत पांच कारें, चार आटो, एक सिटी बस और एक दर्जन बाइक आईं हैं। क्षेत्रीय नागरिकों की मदद से पुलिस ने राहत और बचाव कार्य शुरू किया। पुलिस-प्रशासन के तमाम अधिकारी पहुंचे लेकिन कााफी देर तक पिलर नहीं हट सका। दुर्घटना में डेढ़ दर्जन से अधिक लोगों के मरने तथा इससे काफी अधिक के जख्मी होने की आशंका जतायी जा रही है।

1066

दिल्ली से लखनऊ तक अफवाहों का बाजार रहा गर्म

हादसे में मरने वालों की संख्या को लेकर काफी देर तक कोई बताने की स्थिति में नहीं था। दरअसल पिलर के नीचे वाहनों के दबे रहने के चलते स्पष्ट नहीं हो पा रहा था कि इसमे कितने लोग फंसे होंगे। सोशल मीडिया पर तो सौ से अधिक मौतों की अफवाह चलने लगी थी। मामला पीएम के संसदीय क्षेत्र का जिससे दिल्ली से लेकर लखनऊ तक की मशीनरी सक्रिय हो गयी। एनडीआरएफ से लेकर तमाम एजेंसियों को बचाव और राहत कार्य में लगा दिया गया। घायलों की संख्या काफी अधिक होने की आशंका को देखते हुए बीएचयू ट्रामा सेंटर और दूसरे सरकारी अस्पतालों के अलावा निजी नर्सिंग होम को भी अलर्ट पर रखा गया है।

admin

No Comments

Leave a Comment