वाराणसी। राज्यमंत्री डा. नीलकंठ तिवारी पिछले साल विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों की घोषणा होने तक फौजदारी के अधिवक्ता के रूप में ही जाने जाते थे। छात्र राजनीति के बाद उन्हें पहचान यहीं से मिली। सेन्ट्रल बार के अध्यक्ष भी रहे। बावजूद इसके पिछले दिनों कचहरी को लेकर हुए विवाद की पीड़ा गुरुवार को बार एसोसिएशन के कार्यक्रम में झलकी। उन्होंने कहा कि बनारस कचहरी को भारत की मानक कचहरी बनाने का प्रयास हो रहा है इसके लिए सकारात्मक भाव और प्रयास की जरूरत है। अच्छी कचहरी यहीं बनेगी। मेरा कचहरी से काफी लगाव है अधिवक्ताओ के दर्द को जानता हूँ और झेला भी हूं। कचहरी का विकास अधिवक्ताओ के अनुरूप ही होगा जिससे वह सन्तुष्ट हो, कचहरी के लिए वाटर एटीएम लगाने की घोषणा के साथ जिलापंचायत मुख्य मार्ग को ठीक कराने,साफ सफाई के लिए 6 कर्मचारी लगाये जायेंगे जो नियमित कार्य करेंगे। कोषागार के सामने स्थित एल आकार की भूमि अधिवक्ताओ के बैठने के लिए राजस्व विभाग से दिए जाने का प्रयास होगा। यह विचार सेंट्रल बार असोसिएशन के शपथग्रहण समारोह में प्रदेश के विधि एवं न्याय राज्यमंत्री डा. नीलकंठ तिवारी ने मुख्य अतिथि पद से कही।

शपथ ग्रहण के साथ नयी टीम ने संभाला कार्यभार

राज्यमंत्री ने सेंट्रल बार अध्यक्ष प्रभुनाथ पाण्डेय,महामन्त्री संजय सिंह दाढ़ी समेत अन्य पदाधिकारियो को शपथ दिलाई। इस दौरान जिला जज दिनेश कुमार शर्मा, डीएम योगेश्वर राम मिश्र,एल्डर्स कमेटी के चेयरमैन दीनानाथ सिंह,बार कौंसिल के पूर्व सदस्यगण अरुण त्रिपाठी व हरिशंकर सिंह,बनारस बार के अध्यक्ष नरेंद्र श्रीवास्तव व महामन्त्री रजनीश मिश्र समेत तमाम वरिष्ठ अधिवक्ता तथा न्यायिक अधिकारी शामिल रहे,इस दौरान विधि राज्यमंत्री,जिला जज, जिलाधिकारी को स्मृतिचिन्ह देकर सम्मानित भी किया गया। संचालन निवर्तमान महामन्त्री ओम प्रकाश पाण्डेय और समापन निवर्तमान अध्यक्ष अशोक सिंह प्रिन्स ने किया।

admin

No Comments

Leave a Comment