बलिया। तीन दिन पहले दिन पूर्व अपने ननिहाल गए शशांक राय (11) का गाजीपुर में शव मिलने से परिवार में हड़कम्प मच गया। बालक की हत्या का समाचार जैसे ही भाटी गांव पहुंचा, परिवार के सदस्य सन्न रह गए। परिजन आनन-फानन में गाजीपुर पहुंचे, जहां पुलिस ने शव को पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। सिकंदरपुर थाना क्षेत्र के भाटी गांव निवासी राकेश राय उर्फ रिंकू राय का सबसे छोटा पुत्र शशांक राय एक सप्ताह पूर्व विद्यालय की छुट्टी हो जाने पर अपनी मां व अपने चार भाई-बहनों के साथ अपने ननिहाल बक्सर (बिहार) के सेमरी दुधी पट्टी गया हुआ था। परिवार के सदस्यों के अनुसार पिछले 8 जून को दोपहर 2 बजे दिन में जब वह अपने घर के बाहर खेल रहा था, उसी समय कहीं गायब हो गया। परिवार वाले काफी खोजबीन किए तो उसका पता नहीं चल पाया। उन्होंने तत्काल सेमरी थाने में इसकी सूचना दी। स्वयं भी हर जगह पता करने लगे। परिवार वालों के अनुसार 10 जून को शाम लगभग 7 बजे गाजीपुर से किसी रिश्तेदार ने उनको सूचना दिया कि एक बच्चे का शव थाने पर रखा गया है। परिवार वाले तुरंत पहुंचकर शव को देखा तो वह शशांक का ही शव था। इससे परिवार वालों के पैरों तले जमीन खिसक गई। पुलिस ने बताया कि 10 जून को सुबह गाजीपुर गंगा पुलिया के समीप आने जाने वालों ने शव को देखकर तुरंत पुलिस को सूचना दिया था।

शशांक की हत्या पर भड़का आक्रोश, चक्काजाम

सिमरी (बक्सर) के दुद्धी पट्टी से 8 जून को अपनी ननिहाल से गायब शशांक की हत्या से हर कोई स्तब्ध है। शशांक की हत्या के पीछे का राज क्या है ? परिजन भी इस सिलसिले में कुछ नहीं बता पा रहे हैं। ननिहाल से गायब शशांक की हत्या ने सभी को झकझोर दिया है। बक्सर के पुराना भोजपुर चौक पर लोगों ने एनएच 84 को जाम कर धरना शुरू कर दिया है। धरना स्थल पर मृत बालक की मां भी बैठी थी। आक्रोशित भीड़ प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर रही थी। आरोप है कि घटना के दिन ही शशांक के मामा करुणानिधि राय ने पुलिस को सूचना दी थी, लेकिन पुलिस ने गंभीरता नहीं दिखायी। इस बीच 10 जून की सुबह शशांक का शव गाजीपुर में गंगा सेतु के समीप देखा गया। गाजीपुर पुलिस यह पता लगाने में जुटी रही कि यह शव कहां से आया?

क्रूरतापूर्वक की गयी थी हत्या

पंचनामा में पता चला उसके हाथ-पैर तोड़ दिए गए हैं। चाकू से गोदकर उसकी निर्मम हत्या की गई है। इस बीच सोशल मीडिया के द्वारा गाजीपुर पुलिस को पता चला बालक का नाम शशांक है और उसका अपहरण बक्सर के सिमरी गांव से हुआ है। वहां से तत्काल इसकी सूचना बक्सर पुलिस को मिली। परिजनों को जब इसकी जानकारी हुई तो वह सहसा विश्वास नहीं कर सके।

admin

No Comments

Leave a Comment