जौनपुर। पूर्वांचल के माफिया गिरोहों के बीच आमने-सामने की जंग दशकों से चली आ रही है। एक-दूसरे पर जानलेवा हमला करने से लेकर दूसरे दांव-पेंच अपनाये जाते रहे हैं। इंटरनेट युग में लड़ाई का तौर-तरीका बदला है। सुनने में भले ही अटपटा लगे लेकिन इन दिनों पूर्व विधायक और सांसद रह चुके धनंजय सिंह और भाजपा विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड समेत संंगीन मामलों के आरोपित प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी के बीच सोशल मीडिया पर ‘जंग’ चल रही है। फेसबुक और व्हाट्सएप पर मुन्ना बजंरगी का एक मैसेज खासा वायरल हो रहा है जिसमें उसने अपने खिलाफ ‘दुष्प्रचार’ के लिए पूर्व सांसद को जिम्मेदार ठहराते हुए सफाई दी है। खास यह कि बजरंगी ने इसे अपनी ‘छवि’ खराब करने की साजिश बताते हुए किसी एजेंसी से इसकी जांच की मांग की है।

1179

एक मैसेज से हुई थी शुरूआत

बताया जाता है कि फेसबुक पर एक मैसेज को लेकर इसकी शुरूआत हुई थी। मैसेज पिछले माह 15 अप्रैल को पड़ा था लेकिन बजरंगी की तरफ से इसकी सफाई पांच हफ्ते बाद आयी है। बहरहाल बजरंगी की तरफ से सफाई में कहा गया है कि ‘मैं प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी एक बात रखना चाहता हूं कि जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह के द्वारा धनंजय सिंह यूथ बिग्रेड की आईडी से मेरी छवि खराब करने का कार्य किया जा रहा है और हत्या जैसे जघन्य आरोप लगाये जा रहे हैं’।

1180

छिपी नहीं है राजनैतिक महत्वाकांक्षा

अपने मैसेज में बजरंगी ने भले किसी राजनैतिक दल से संबंध न होने की दुहाई दी है लेकिन आगे अपनी पत्नी सीमा सिंह के मड़ियाहूं से चुनाव लड़ने से लेकर इसके चलते धनंजय में खलबली होना लिखा है। बजरंगी की राजनैतिक महत्वाकांक्षा किसी से छिपी नहीं है। मड़ियाहूं से पहले खुद और पिछले चुनाव में पत्नी को मैदान में उतारा था। यह बात दीगर है कि जीतना तो दूर जमानत नहीं बची थी।

admin

No Comments

Leave a Comment