सावन में बाबा विश्वनाथ का होगा online दर्शन, किए जा रहे हैं खास इंतजाम

वाराणसी। आगामी 5 जुलाई से श्रावण मास शुरू होने वाला है और इसकी तैयारियों को लेकर धर्म की नगरी काशी के लोग जुट गए हैं। द्वादश ज्योतिर्लिंग मैं से एक बाबा श्री काशी विश्वनाथ के दर्शन के लिए सावन के महीने में लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं । इस बार सावन के महीने में कोरोना को देखते हुए काफी कुछ बदलाव किया जा रहा है। श्रावण मास में दर्शन पूजन करने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बाबा श्री काशी विश्वनाथ मंदिर प्रशासन की तरफ से सैनिटाइजेशन के साथी एक साथ मात्र से श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश करने और श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए मंदिर में तीन एंट्री और तीन एग्जिट द्वार बनाने का निर्णय लिया है।
सावन में बाबा का होगा live का दर्शन 
श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के सीईओ गौरांग ने श्रावण मास की तैयारियों को लेकर मीडिया से रूबरू हुए।उन्होंने बताया इस बार शहर के 9 यूनी पोल पर लगे एलईडी पर श्री काशी विश्वनाथ बाबा के दर्शन की व्यवस्था की जा रही है। प्रयास हैं कि लाइव कनेक्ट किया जाए नहीं तो डेफर्ड लाइव की व्यवस्था की जाएगी। 
-मंदिर परिसर को कुछ दिनों में जोन के हिसाब से बांट दिया जाएगा। -प्रवेश और निकास के 3-3 द्वार होंगे।- भक्तों की बीच की दूरी 6 फुट की होगी। -मंदिर को हर 6 घण्टे पर सेनिटाइजेशन किया जाएगा।- मैदागिन से गोदौलिया मार्ग पर कोई भी व्हीकल नहीं चलेगा।* ई-रिक्शा को केवल परमिशन दिया गया है। -फिजिकल डिस्टेंसिंग का खास ध्यान रखा जाएगा। -हैंडवाश और 5 ऑटोमैटिक मशीनें भी लगाई गई है। -कोई भी बिना मॉस्क अंदर प्रवेश नहीं पाएगा। प्रसाद भी बाहर से ही चढ़ाना होगा। -कई स्थानों पर मोबाईल टॉयलेट भी लगाया जाएगा।
मंदिर परिसर में तैनात रहेंगे एंबुलेंस
इसके साथ ही मन्दिर परिसर में 24 घण्टे एम्बुलेंस और मेडिकल टीम मैदागिन पर तैनात रहेगी। सभी इंट्री प्वाइंट पर चेकिंग भी होगा। पिछले साल औसतन प्रतिदिन 70 से 80 हजार की भीड़ होती थी। इस बार 10 से 20  हजार की भीड़ की अनुमति होगी। सभी धार्मिक अनुष्ठान होंगे। आरती की टिकटों में अभी कोई बढ़ोत्तरी की गयी है

Related posts