काशी में गंगा का फिर धारण किया रौद्र रूप, घाटों पर अलर्ट जारी

वाराणसी। कुछ दिनों तक घटान पर रहने के बाद मोक्ष दायिनी गंगा एक बार फिर से उफान परहैं। काशी में गंगा ने रौद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया है। पिछले 24 घंटे से गंगा 4 सेंटीमीटर की रफ्तार से गंगा का जल स्तर बढ़ रहा है। अगर यही रफ्तार रही तो अगले एक या दो दिनों में गंगा चेतावनी बिंदु को पार कर जाएगी। गंगा में आये बाढ़ के मद्देनजर घाट किनारे अलर्ट जारी कर दिया गया है।

एक बार फिर से टूटा घाटों का संपर्क

गंगा में तेजी से बढ़ रहे जलस्तर के चलते घाटों का संपर्क एक बार फिर टूट चुका है। स्थानीय लोग जैसे तैसे जिंदगी गुजार रहे हैं। बाढ़ के चलते विश्व विख्यात गंगा आरती का स्थान भी परिवर्तित किया गया है। वही जल पुलिस की चौकी भी एक बार फिर से जल मग्न होने के कगार पर पहुंच चुकी है। अस्सी घाट पर सुबह-ए-बनारस के मंच पूरी तरह गंगा में समाहित हो गया है। इस बीच श्राद्ध करने वाराणसी पहुंचे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पंडे घाट किनारे बने घरों की छतों पर कर्म कांड करवा रहे हैं।

तटवर्ती इलाके के निवासियों की बढ़ी धुकधुकी

गंगा के जलस्तर में शुक्रवार की शाम से ही वृद्धि होने लगी थी। जिला प्रशासन ने भी चेतावनी जारी करते हुए सैलानियों को सतर्क कर दिया है। गंगा में नौकायन पूरी तरह बंद कर दिया गया है और घाटों पर सुरक्षा बढ़ा दीगई है। दूसरी तरफ गंगा के तटवर्ती इलाके में रहने वाले लोगों की धड़कनें बढ़ने लगी हैं। सामने घाट, मारुति नगर, नगवां, रामनगर सहित कई इलाकों के लोग दहशत में हैं।

Related posts